मुख्यपृष्ठटॉप समाचारबिहार में का बा? भाजपा बाहर बा! ‘चिराग पासवान’ मॉडल फेल...

बिहार में का बा? भाजपा बाहर बा! ‘चिराग पासवान’ मॉडल फेल ; नीतिश के हाथ लगे सुराग

सामना संवाददाता / पटना

पिछले साल जब बिहार में विधान सभा के चुनाव हुए थे तब एक गाना सोशल मीडिया पर खूब छाया था, ‘बिहार में का बा?’ अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसका सॉलिड जवाब देते हुए बता दिया है कि बिहार में ‘भाजपा सत्ता से बाहर बा!’ भाजपा-जदयू गठबंधन टूटने के बाद अब आम लोग भी इसका मजा लेते हुए इस पंक्ति को दोहरा रहे हैं। काफी लोगों को अभी भी समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर किस बात पर ४५ विधायकों वाली पार्टी जदयू ने बड़ी पार्टी भाजपा से अपना गठबंधन तोड़ डाला? वैसे तो राजनीतिक गलियारों में तमाम तरह की अटकलें और कहानियां चल रही हैं, पर जदयू के अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि भाजपा नेतृत्व ने बिहार में जदयू को खत्म करने की ओर कदम बढ़ा दिए थे, जिससे नीतीश कुमार चिढ़ गए थे। जदयू के सूत्र बताते हैं कि नीतीश कुमार के हाथ कुछ अहम सुराग लगे, जिससे उन्हें समझ में आ गया कि भाजपा राज्य में उनकी पार्टी को तोड़ने की योजना बना रही है।
महाराष्ट्र में भाजपा यह कुटिल खेल खेल चुकी है। भाजपा बिहार में ‘चिराग पासवान’ मॉडल अपनाकर जदयू कोे तोड़ना चाहती थी। जदयू अध्यक्ष लल्लन सिंह ने एक दिन पहले ही इस बात का दावा करते हुए बता दिया था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कद छोटा करने के लिए वर्ष २०२० में षड्यंत्र हुआ था। तब एक मॉडल तैयार किया गया था, जिसका नाम था चिराग पासवान। अब दूसरा ‘चिराग मॉडल’ तैयार करने का षड्यंत्र था। कुछ लोग जदयू रूपी जहाज में छेद कर इसे डुबाना चाहते थे। हम आभारी हैं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ऐसे लोगों को पहचान लिया। जहाज की मरम्मत करके उसे एकदम ठीक कर दिया है। अब कोई षड्यंत्र यहां चलनेवाला नहीं है क्योंकि नीतीश कुमार अलर्ट थे। इसके अलावा १० दिन पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के बयान ने आग में घी का काम कर दिया। नड्डा ने कहा था, ‘सभी क्षेत्रीय दल खत्म हो जा रहे हैं, जो नहीं खत्म हुए, वो जल्द ही खत्म हो जाएंगे। बचेगी तो सिर्फ भारतीय जनता पार्टी।’ नड्डा के इस बयान से नीतीश काफी नाराज हो गए। आरसीपी कांड ने इसे और बढ़ा दिया। असल में भाजपा आरसीपी सिंह को मोहरा बनाकर जदयू में सेंध लगाने के मिशन पर थी। मगर इससे पहले आरसीपी कोई खुराफात कर पाते, जदयू ने बैकफायर कर दिया और आरसीपी को चित कर दिया।

अन्य समाचार