मुख्यपृष्ठसमाचारअमेरिका से पिटा, तो हमें आंख दिखाने लगा चीन! जमीन से आसमान...

अमेरिका से पिटा, तो हमें आंख दिखाने लगा चीन! जमीन से आसमान तक हिंदुस्थानी अतिक्रमण किया तेज

  •  अक्साई चिन में सैन्य अभ्यास किया तेज
  • एलएसी के समानांतर तैनात किया हवाई बेड़ा

एजेंसी / नई दिल्ली
चीन एक ऐसा देश है, जिसे हर देशों द्वारा लताड़ लगाई जाती है, फिर भी वो अपनी ओछी हरकतों से बाज नहीं आता है। हाल ही में अमेरिकी स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा को लेकर चीन ने धमकी दी थी। इसके बावजूद नैंसी चीन की धमकी को दरकिनार करते हुए ताइवान गईं । मतलब चीन जब इस मामले में अमेरिका से पिट गया तो अब हमें यानी हिंदुस्थान को आंख दिखाने लगा है। मिली जानकारी के अनुसार उसने जमीन से लेकर आसमान तक अतिक्रमण तेज कर दिया है। ड्रैगन ने अक्साई चिन में सैन्य अभ्यास बढ़ाने के साथ एलएसी के समानांतर हवाई बेड़ा तैनात कर दिया है।
बता दें कि चीन लगातार हिंदुस्थान के एयरस्‍पेस का उल्‍लंघन कर रहा है। दोनों देशों के बीच सैन्‍य बातचीत के खास दौर में भारत ने इसका पुरजोर विरोध किया है। मई २०२० के बाद से ही पूर्वी लद्दाख में सीमा पर दोनों तरफ के सैनिक और युद्ध का साजो-सामान मौजूद है। जून २०२२ के बाद से चीन ने एलएसी पर १० किलोमीटर के नो-फ्लाई जोन का अक्‍सर उल्‍लंघन किया है। चीन ने पिछले दो साल में हिंदुस्थान के करीब एयरबेसेज को सिस्‍टमैटिक ढंग से अपग्रेड किया है। एक तरह से चीन एलएसी पर हिंदुस्थान के लिए हवाई चक्रव्‍यूह सा तैयार कर रहा है। हालांकि हिंदुस्थान ने चीन की बढ़ती `एयर एक्टिविटी’ का खुलकर विरोध किया है।
हिंदुस्थानी एयरबेसेज भी हाई ऑपरेशनल अलर्ट पर
चीन ने पिछले दो साल में हिंदुस्थान के करीब मौजूद एयरबेसेज को अपग्रेड किया है। होटन, काश्गर, गारगुंसा, शिगात्‍से जैसे एयरबेस सिस्‍टमैटिकली अपग्रेड किए गए। एक्‍सटेंडेड रनवे, मजबूत शेल्‍टर्स या ब्‍लास्‍ट पेन्‍स और फ्यूज स्‍टोरेज की सुविधा वाले इन एयरबेसेज का मतलब है कि पीएलए एयरफोर्स अब और जे-११ और जे-८ फाइटर्स, लॉन्‍ग-रेंज बॉम्‍बर्स और टोही विमान तैनात कर सकती है। इससे आईएएफ की पकड़ थोड़ी कमजोर होगी, क्‍योंकि उसके जेट्स की वेपन और फ्यूज कैरी  करने की क्षमता सीमित है। चीन के जवाब में हिंदुस्थान ने उत्तरी सीमा से लगते सभी एयरबेसेज को हाई ऑपरेशनल अलर्ट पर रखा है। वहां पर सुखोई-३० एमकेआई, मिग-२९, मिराज-२,००० और जगुआर लड़ाकू जेट्स तैनात हैं।

अन्य समाचार