मुख्यपृष्ठनए समाचार`जब सिलिंडर के दाम ४०० रुपए थे उस समय एक महिला आंदोलन...

`जब सिलिंडर के दाम ४०० रुपए थे उस समय एक महिला आंदोलन करती थीं’ : शक्ति सिंह ने साधा स्मृति ईरानी पर निशाना

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

देश की संसद में इन दिनों महंगाई का मुद्दा गरमाया हुआ है। बढ़ती महंगाई के मुद्दे को लेकर विपक्ष लगातार नरेंद्र मोदी के नेतृत्ववाली भाजपाई सरकार को घेर रही है। यही वजह है कि संसद में महंगाई को लेकर हंगामा चल रहा है।
गौरतलब है कि देश में पिछले ३ वर्षों से रिकॉर्डतोड़ महंगाई दर्ज की गई है। इस पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सुप्रिया सुले सहित कई नेताओं ने बढ़ती महंगाई को लेकर अपना गुस्सा व्यक्त किया है। उल्लेखनीय है कि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने जब से कहा है कि देश मे महंगाई बढ़ी नहीं है, यही वजह है कि उनके इस बयान पर विपक्ष का गुस्सा और भी बढ़ गया है।
बता दें कि राज्यसभा के सांसद शक्ति सिंह गोहिल ने महंगाई को लेकर सरकार पर हल्ला बोला है। इन दिनों उनका भाषण भी खूब वायरल हो रहा है। कांग्रेस सांसद शक्ति सिंह गोहिल ने राज्यसभा में महंगाई के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि `देश में जब कांग्रेस की सरकार थी उस समय गैस सिलिंडर के दाम ४०० रुपए थे, जो आज बढ़कर १,१०० रूपए हो गए हैं। जब सिलिंडर ४०० रुपए में मिलता था तो एक महिला सिलिंडर पर बैठकर आंदोलन किया करती थीं। अब वे कहां चली गई हैं?’ ऐसा सवाल करते हुए उन्होंने भाजपा की नेता और वेंâद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की ओर निशाना साधा है। आगे उन्होंने कहा कि `कांग्रेस सरकार के समय सऊदी अमीरात के आंकड़े के अनुसार, घरेलू गैस यानी एलपीजी की कीमत ८८५.२ अमेरिकन डॉलर प्रति मीट्रिक टन थी। उस समय सिलिंडर के दाम ४१५ रुपए थे। अब भाजपा सरकार के कार्यकाल में मार्च २०२२ में गैस की कीमत ७६९ अमेरिकन डॉलर प्रति मीट्रिक टन सस्ता हुआ है। इसके बावजूद घरेलू गैस सिलिंडर की कीमत ४०० से १,१०० रुपयों तक पहुंच गई है।’ उन्होंने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की ओर निशाना साधते हुए कहा कि, `जब सिलिंडर के दाम ४०० रुपए थे, उस समय आंदोलन करनेवाली महिला अब कहां गायब हो गई हैं। कम से कम अब उन्हें सामने आना चाहिए था।’

अन्य समाचार