मुख्यपृष्ठनए समाचारस्वास्थ्य विभाग के ‘कीड़े’ मंत्री की कब होगी सर्जरी!.. मुख्यमंत्री शिंदे से...

स्वास्थ्य विभाग के ‘कीड़े’ मंत्री की कब होगी सर्जरी!.. मुख्यमंत्री शिंदे से रोहित पवार का सवाल

सामना संवाददाता / मुंबई

पुणे महानगरपालिका के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.भगवान पवार ने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को पत्र लिखकर मंत्री तानाजी सावंत द्वारा गलत काम करने के लिए दबाव डालने और गलत काम न करने पर निलंबित करने का आरोप लगाया है। स्वास्थ्य अधिकारी के इस पत्र के बाद राकांपा (शरदचंद्र पवार) पार्टी के विधायक रोहित पवार ने शिंदे सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने मुख्यमंत्री से सवाल किया है कि स्वास्थ्य विभाग के कार्यालय में फोन कर अवैध टेंडर के लिए दबाव डालने वाले ये मंत्री स्वास्थ्य मंत्री हैं क्या? और यदि हैं तो मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे जी आप और कितने दिन भ्रष्टाचार का साथ देंगे? रोहित पवार ने मांग की है कि स्वास्थ्य व्यवस्था से इस ‘कीड़े’ को हटाने के लिए सर्जरी कब की जाएगी?
एनसीपी विधायक रोहित पवार ने कहा कि एकनाथ शिंदे की वैâबिनेट में शामिल स्वास्थ्य मंत्री तानाजी सावंत पर पहले एंबुलेंस खरीद घोटाले का आरोप लगा था। अब पुणे मनपा के निलंबित अधिकारी की लिखी चिट्ठी से हड़कंप मच गया है। निलंबित अधिकारी डॉ. भगवान पवार ने स्वास्थ्य मंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। साथ ही पवार ने आरोप लगाया है कि मैं पिछड़ा वर्ग से हूं इसलिए जानबूझकर मुझ पर निलंबन की कार्रवाई की गई। अब रोहित पवार ने भी इसी आरोप को लेकर सरकार पर निशाना साधा है।
अधिकारियों को पीटने वाला भ्रष्टाचार का ‘केकड़ा’ कौन है?
रोहित पवार ने कल एक्स अकाउंट पर एक पोस्ट किया। भगवान पवार का पत्र साझा किया गया है। साथ ही भ्रष्टाचार का ‘केकड़ा’ कौन है जो अधिकारियों को पीट रहा है? उन्होंने ऐसा सवाल पूछा है। स्वास्थ्य विभाग में एंबुलेंस खरीद में साढ़े छह हजार करोड़ रुपए की दलाली करने वाले भ्रष्टाचार के ‘केकड़ों’ ने अब अधिकारियों पर भी हमला करना शुरू कर दिया है। पुणे मनपा के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. भगवान पवार ने मुख्यमंत्री से संपर्क किया है।

अन्य समाचार