मुख्यपृष्ठनए समाचारकब चलेगी शिक्षक स्पेशल ट्रेन! ...रेलवे जारी करे शेड्यूल

कब चलेगी शिक्षक स्पेशल ट्रेन! …रेलवे जारी करे शेड्यूल

सामना संवाददाता / मुंबई । हर साल गर्मी की छुट्टियों के दौरान मुंबई के शिक्षक और शिक्षकेतर कर्मचारी अपने परिवार के साथ मुलुक उत्तर प्रदेश जाते हैं। रेलवे विभाग द्वारा मई के पहले सप्ताह में मुंबई से बनारस और वहां से जून महीने में वापसी के लिए शिक्षक स्पेशल ट्रेन की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है परंतु इस साल अब तक रेलवे ने शिक्षक स्पेशल ट्रेन की घोषणा नहीं की है। रेलवे की इस लेट-लतीफी से आहत शिक्षकों ने मांग की है कि कब चलेगी शिक्षक स्पेशल ट्रेन। रेलवे जल्द शेड्यूल जारी करे।
शिक्षकों का कहना है कि शेड्यूल घोषित होने पर अप्रैल के अंतिम सप्ताह में लोग टिकट आरक्षित कराते हैं, इस साल इस संबंध में रेल मंत्रालय द्वारा किसी भी निर्णय की घोषणा नहीं होने पर शिक्षक समाज प्रतीक्षा कर रहे हैं। हर साल सुविधा उपलब्ध करानेवाली केंद्र सरकार और रेल मंत्रालय द्वारा इसकी अनदेखी क्यों की जा रही है? उत्तर हिंदुस्थान की ओर जानेवाली सभी ट्रेन में हमेशा भीड़ रहती है। इसलिए लोग तीन महीने पहले अपना टिकट बुक कराते हैं। स्पेशल ट्रेन की समय पर घोषणा नहीं हुई और दूसरी ट्रेन का टिकट नहीं मिला तो इंतजारी करनेवाली शिक्षक गांव कैसे जाएगा? ऐसा सवाल भी शिक्षकों ने किया है। ऐसी स्थिति में जहां साधारण टिकट भी मिलना मुश्किल हो रहा है। मुंबई मनपा और विभिन्न माध्यम के स्कूलों में पच्चीस हजार से ज्यादा काम करनेवाले उत्तर भारतीय कर्मचारियों को साल में एक बार अपने परिवार के साथ गांव जाने के लिए कम समय में आरक्षित टिकट की व्यवस्था करना कठिन हो रहा है? कोरोना संकट के चलते कई शिक्षक पिछले दो साल से अपने परिवार सहित गांव नहीं जा पाए हैं। लोगों में मई के महीने में शादियों और अन्य पारिवारिक कार्यक्रमों में उपस्थिति के साथ बनारस में नवनिर्मित काशी विश्वनाथ के भव्य मंदिर दर्शन यात्रा की उत्सुकता भी है। नियोजित शेड्यूल घोषित होने पर जून महीने में मुंबई के लिए वापसी टिकट की व्यवस्था कार्यक्रम के अनुसार संभव होगी, इसे ध्यान में रखते हुए राज्य के मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री के शीघ्र निर्णय से रेल मंत्रालय द्वारा विशेष ट्रेन का शेड्यूल जाहिर कराने की मांग टीचर्स डेमोक्रेटिक फ्रंट के उपाध्यक्ष राजेश पंड्या ने की है इस आधार पर शिक्षकों को जाने और आने का उचित नियोजन करना संभव होगा।

अन्य समाचार