मुख्यपृष्ठनए समाचारजब-जब चुनाव आते हैं तब भाजपा को आती है राम की याद!...

जब-जब चुनाव आते हैं तब भाजपा को आती है राम की याद! … शरद पवार का आरोप

केंद्र की मौजूदा सरकार को हटाए बिना चैन से न बैठे विपक्ष
सामना संवाददाता / मुंबई
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार ने समान विचारधारा वाले विपक्षी दलों से आग्रह किया, जब तक केंद्र में मौजूदा सरकार को हटा न दिया जाए, वे चैन से न बैठें। सोलापुर जिले के मंगलवेढा शहर में एक सभा को संबोधित करते हुए पवार ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर केवल चुनावों के दौरान भगवान राम को याद करने का आरोप लगाया। उन्होंने ने कहा कि ‘एक विकल्प प्रदान करने के लिए एक साथ आए समान विचारधारा वाले दलों को चुनाव के आखिरी दिन तक आराम नहीं करना चाहिए। उन्हें तब तक चैन से नहीं बैठना चाहिए, जब तक कि राजनीतिक विरोधियों को निशाना बना रही मौजूदा सरकार को हटा नहीं दिया जाता।’ उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी (एमवीए) आगामी चुनावों के लिए गठबंधन बनाने को लेकर वाम दलों और प्रकाश आंबेडकर की वंचित बहुजन आघाड़ी (वीबीए) से बात कर रही है। महाविकास आघाड़ी में शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस शामिल हैं। अयोध्या के राम मंदिर के बारे में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्हें भगवान राम के प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए निमंत्रण मिला है, लेकिन यह निमंत्रण कार्ड दिखाता है कि केवल विशिष्ट राजनीतिक दल और संगठन ही इस कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण हैं। पवार ने कहा कि मंदिर का निर्माण पूरा होने के बाद वह भगवान राम की पूजा करने के लिए अयोध्या जाएंगे। उन्होंने कहा कि ‘भगवान राम पूरे देश के हैं, किसी एक राजनीतिक दल के नहीं।’ पवार ने आगे कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने राम जन्मभूमि का ताला खोलने का आदेश दिया और अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास किया।
केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ अदालती लड़ाई लड़ेंगे
युवानेता व विधायक रोहित पवार को ईडी ने पूछताछ के लिए बुलाया है। रोहित पवार को २४ तारीख को पूछताछ के लिए उपस्थित होने का नोटिस दिया गया है। इस पृष्ठभूमि पर पत्रकारों ने शरद पवार की प्रतिक्रिया जानने की कोशिश की।
उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टी के कई लोगों को ईडी का नोटिस मिला है। संजय राऊत और अनिल देशमुख को भी गिरफ्तार किया गया। अनिल देशमुख को एक शैक्षणिक संस्थान को दान देने के आरोप में जेल हुई थी। आख़िरकार अदालत ने उन्हें बरी कर दिया। सरकार के खिलाफ लिखने के कारण संजय राऊत को जेल हुई थी। शरद पवार ने आगे कहा, ‘ईडी जैसे केंद्रीय तंत्र के हथियार का इस्तेमाल विपक्ष के खिलाफ किया जा रहा है। सत्ता का खूब दुरुपयोग हो रहा है। सरकारी नीतियों से सहमत नहीं होनेवाले लोगों को लक्षित करने और निर्वासित करने के लिए एक कार्यक्रम चल रहा है। यह अकेले रोहित पवार की समस्या नहीं है। यह सभी विरोधियों का है। इसलिए अदालत में लड़ाई लड़ना हम पर निर्भर है और हम ऐसा करना जारी रखेंगे।’

अन्य समाचार