मुख्यपृष्ठनए समाचारमहाराष्ट्र में मौतों के तांडव का जिम्मेदार कौन? ... नागपुर में ४...

महाराष्ट्र में मौतों के तांडव का जिम्मेदार कौन? … नागपुर में ४ दिनों में ८० मरीजों की मौत

सामना संवाददाता / मुंबई
महाराष्ट्र में पिछले कई दिनों से मरीजों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। नांदेड़ के बाद अब नागपुर में ४ दिनों में ८० मरीजों की मौत हो चुकी है। नागपुर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल और इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में ८० मरीज जान गवां चुके हैं। इन दोनों अस्पतालों में १ से ३ अक्टूबर तक ५९ मरीजों ने दम तोड़ा, जबकि ४ अक्टूबर को एनजीएमसीएच और आईजीएमसीएच में २१ और मौतें हो गई हैं। यानी चार दिनों में ही २ अस्पतालों में ८० मरीजों ने दम तोड़ दिया। नागपुर में जिन परिवारों ने अपनों को खोया वो भी मौतों के पीछे वही वजह बता रहे हैं, जो नांदेड़ के जिला अस्पताल से सामने आई थी। यानी सरकारी अस्पताल में दवाइयों की कमी, गंभीर मामलों में ऑपरेशन करने में हुई देरी और मरीजों के लिए पर्याप्त बेड का इंतजाम न होना।
मेडिकल कॉलेज के डीन ने क्या कहा?
नागपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज के डीन का कुछ और ही कहना है। डॉक्टर राज गजभिये ८० मरीजों की मौत की वजह कुछ और बता रहे हैं। डीन के मुताबिक, अस्पताल में दवाओं की कमी से मरीजों की मौत नहीं हुई। डीन के मुताबिक, उनके अस्पताल में सब दुरुस्त है। दवाएं भी हैं और इंतजाम भी। यही जवाब नांदेड़ के शंकरराव चव्हाण मेडिकल कॉलेज के डीन का भी था। जहां दो दिनों में ३१ मरीजों की जान चली गई। उन्होंने भी अस्पताल में लापरवाही से इनकार किया था, जबकि नांदेड़ में मौत के आंकड़ा और बढ़कर ३१ से ५१ पर जा पहुंचा और जिन्होंने अपनों को खोया है उनकी सुध लेने वाला अब कोई नहीं।
सब ठीक है तो गड़बड़ कहां है?
अस्पताल प्रबंधन और प्रशासन से वाजिब जवाब नहीं मिला तो अब मानवाधिकार आयोग ने महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी किया है और ४ हफ्तों में जवाब मांगा है कि दो जिलों में १३१ लोगों की मौत का जिम्मेदार कौन है?

सांगली में भी घट सकता है हादसा!
मुंबई से सटे ठाणे मनपा के कलवा छत्रपति शिवाजी महाराज अस्पताल में मरीजों की मौत का मामला सबसे पहले नजर आया था। ठाणे के बाद नांदेड़ और नांदेड़ के बाद नागपुर में मरीजों की मौत का मामला सामने आया था। ग्राउंड रिपोर्ट के मुताबिक, सांगली के मिरज जिला अस्पताल की हालत दयनीय है। जिस प्रकार ठाणे, नांदेड़, नागपुर में मरीजों की मौत की घटना सामने आई है, उसी प्रकार की घटना सांगली के मिरज अस्पताल में भी मरीजों की मौत की घटना घट सकती है, ऐसी संभावना अस्पताल सूत्रों द्वारा व्यक्त की जा रही है।

 

अन्य समाचार