मुख्यपृष्ठनए समाचारकौन चला रहा है ‘हर घर ड्रग्स' मुहिम? : गुजरात में अब...

कौन चला रहा है ‘हर घर ड्रग्स’ मुहिम? : गुजरात में अब मिला ३ बीएचके का  गांजे वाले खेत!

• १५ वीं मंजिल पर बाकायदा लैब बनाकर की जा रही थी नशे की खेती 
• अडानी के पोर्ट पर भी मिल चुकी है हजारों किलो ड्रग्स
सामना संवाददाता / अमदाबाद 
गुजरात में नशे को लेकर एक के बाद एक चौंकानेवाली खबरें आ रही हैं। अभी अडानी के प्रबंधनवाले मुंदरा पोर्ट पर हजारों-लाखों किलो ड्रग्स मिलने का मामला ठंडा भी नहीं हुआ था कि अब गुजरात के अमदाबाद शहर की एक हाईराइज इमारत की १५वीं मंजिल पर गांजे का एक ३ बीएचके का खेत जांच एजेंसियों की नजर में आया है, जहां बाकायदा लैब बनाकर गांजे की पैâक्ट्री चलाई जा रही थी। गुजरात में एक के बाद एक नशे की मिलती खेपों से अब यह सवाल प्रमुखता से लोगों के मन में कौंध रहा है कि आखिर गुजरात समेत देशभर के हर घर तक नशे के पहुंचाने की मुहिम कौन चला रहा है और सरकार उसकी तह तक पहुंच पाने में कैसे नाकाम बनी हुई है।

पुलिस ने अमदाबाद के सरखेज इलाके की एक पॉश सोसाइटी की १५वीं मंजिल पर स्थित एक फ्लैट में प्रतिबंधित गांजे की खेती करने पर एक महिला समेत तीन को अरेस्ट किया है। इस मामले में अभी व्यक्ति फरार है। पुलिस के मुताबिक, ये सभी झारखंड के रांची के रहने वाले हैं। सूचना के आधार पर फ्लैट में छापेमारी की गई तो वहां पर बिना मिट्‌टी के कृत्रिम तौर पर गांजे की खेती की जा रही थी। पुलिस के अनुसार सभी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट की धाराओं के तहत अपराध दर्ज किया गया है। इनके ट्रैक को खंगालने के लिए टीम झारखंड जाकर भी जांच करेगी।
बनाई गई थी एक लैब
अमदाबाद पुलिस के अनुसार, सरखेज क्षेत्र के एक रिहायशी थ्री बीएचके फ्लैट में गांजे की खेती की जा रही थी। वहां एक पूरी लैब बनाई गई थी। पुलिस ने छापेमारी करके फ्लैट से गांजे के ९६ पौधे जब्त किए हैं। पुलिस को सवा लाख रुपए के गांजे के साथ कुल ४.८७ लाख रुपए का सामान मिला है। अमदाबाद के एम डिवीजन के एसीपी एसडी पटेल ने कहा कि पूरे राज्य में यह अपनी तरह का पहला मामला है।
आरोपियों ने बांट रखा था काम
पुलिस के अनुसार, इस मामले में झारखंड निवासी ३ लोगों रवि प्रकाश, विरेन प्रभात और रितिका को पकड़ा गया है। पुलिस ने बताया कि ये तीनों गांजे के पौधे की हाइड्रोपोनिक्स खेती करते थे। इसमें बिना मिट्टी के पौधों को उगाया जाता है। ग्रीन हाउस इपैâक्ट से अच्छी गुणवत्ता के गांजे की खेती का सिस्टम बनाया गया था। पौधों के शीघ्र विकास के लिए केमिकल का उपयोग भी किया जाता था।

अन्य समाचार