मुख्यपृष्ठसमाचारपॉवरफुल कौन?  महाजन-गुलाबराव में गुत्थमगुत्थी

पॉवरफुल कौन?  महाजन-गुलाबराव में गुत्थमगुत्थी

  • पालकमंत्री पद को लेकर खींचतान

सामना संवाददाता / मुंबई
राज्य में नई सरकार बन गई है लेकिन मंत्री पद और पालकमंत्री पद को लेकर गुत्थमगुत्थी शुरू होने की खबरें आ रही हैं। इसमें जलगांव के गुलाबराव पाटील और गिरीश महाजन सबसे आगे हैं। इस पेच को छुड़ाने के लिए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के पसीने छूट रहे हैं।
महाविकास आघाड़ी सरकार में मंत्री रहे गुलाबराव पाटील के पास जलगांव के पालकमंत्री का पद था। अब वे बागी शिंदे गुट में शामिल हो गए हैं। भाजपा नेता चित्रा वाघ, चिमन पाटील और किशोर पाटील को शिंदे नजरअंदाज कर गुलाबराव को मंत्री बना सकते हैं। जलगांव के भाजपा नेता गिरीश महाजन भी मंत्री पद की शपथ लेने की तैयारियों में हैं। जलगांव जिले से महाजन और गुलाबराव दोनों मंत्री बने तो पालकमंत्री का पद किसे दिया जाएगा? इसे लेकर विवाद खड़ा हो गया है। पुराना पालकमंत्री पद स्थायी रखने पर भाजपा का कड़ा विरोध है। लिहाजा जलगांव के पालकमंत्री पद को लेकर पाटील और महाजन में जोर आजमाइश शुरू है। जलगांव में सबसे ज्यादा ताकतवर कौन है? इसे लेकर संघर्ष खड़ा हो गया है। पाटील और महाजन दोनों का कहना है कि यदि पालकमंत्री नहीं बनाया जाता है तो हमें मंत्री पद नहीं चाहिए। इसलिए शिंदे और फडणवीस दोनों के सामने नई समस्या खड़ी हो गई है।
एक के बदले में दो लो
सूत्रों के अनुसार चाहिए तो एक के बदले में दो पालकमंत्री का पद लो, ऐसा प्रस्ताव फडणवीस ने शिंदे को दिया है। फडणवीस ने महाजन के लिए जोरदार फील्डिंग लगाई है, जिसके कारण शिंदे उलझ गए हैं। शिंदे ने गुलाबराव पाटील को संयम बरतने की सलाह दी है लेकिन पाटील ने साफ शब्दों में कह दिया है कि उन्हें फौजदार से हवलदार नहीं बनना है। इधर, महाजन का कहना है कि उनकी जिले में कुछ इज्जत है कि नहीं? आखिर सरकार बनाने के लिए यह सब क्यों किया गया?
जलगांव के लोग खफा
पिछले कुछ दिनों से गुलाबराव पाटील अपने चुनाव क्षेत्र की जनता को बेसहारा छोड़कर सूरत, गुवाहाटी और गोवा में मौज-मस्ती कर रहे थे, जिससे जलगांव के लोग पूरी तरह से खफा हैं। उनका टीवी पर दर्शन हो रहा था लेकिन वे मुक्त नहीं हैं, सुरक्षा घेरे में हैं। संपर्क से बाहर होने के कारण उनके प्रति चुनाव क्षेत्र के लोगों में तीव्र नाराजगी है।

अन्य समाचार