मुख्यपृष्ठनए समाचारगुनाहों की सजा गरीबों को क्यों देते हैं? ...इस मां की चीख...

गुनाहों की सजा गरीबों को क्यों देते हैं? …इस मां की चीख सुनिए मोदी जी

• नांदेड़ घटना पर बोले राहुल गांधी
सामना संवाददाता / नई दिल्ली
महाराष्ट्र की ‘घाती’ सरकार के शासन काल में स्वास्थ्य व्यवस्था वेंटिलेटर पर पहुंच गई है। बेहतरीन स्वास्थ्य व्यवस्था वाले सूबे के अस्पतालों में मरीज डॉक्टरों एवं दवाओं के अभाव में तड़प-तड़पकर दम तोड़ रहे हैं, जबकि केंद्र की मोदी सरकार निकट भविष्य में होने वाले चुनाव तो वहीं राज्य की सत्ता में शामिल भाजपा, शिंदे गुट और अजीत पवार गुट सत्ता और संसाधनों के बंटवारें की रस्साकशी में ही उलझा नजर आ रहा है। राज्य के ऐसे अराजक हालातों पर कांग्रेसी नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर तीखा तंज कसा है।
महाराष्ट्र के नांदेड़ में मरीजों की मौत से चीख-पुकार मची है। ७२ घंटे में ३८ मरीजों ने दम तोड़ दिया है। इस घटना को लेकर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक वीडियो ट्वीट कर मोदी सरकार को घेरा है। वीडियो में छाती पीटते हुए एक महिला जोर-जोर से विलाप करती नजर आ रही है। अपनों को गंवाने के बाद बदहवास हुई उक्त महिला का वीडियो ट्वीट करते हुए राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा है, ‘कलेजे को चीर देने वाली नांदेड़ की इस गरीब मां की चीखें सुनिए प्रधानमंत्री जी। आप अपने गुनाहों की सजा हमेशा गरीबों को क्यों देते हैं? आपके गुनाह ने इन गरीबों और मासूमों की जान ले ली। चीख सुनिए और इस मां के दर्द को महसूस कीजिए।’
अस्पताल पर लगा घोर लापरवाही का आरोप
मृत मरीजों के परिजनों ने अस्पताल पर दवाइयों की कमी और लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अस्पताल में दवाई की कमी थी। जरूरत पड़ने पर अस्पताल में दवाई उपलब्ध नहीं थी, जिससे मरीजों की जान चली गई। यह घटना डॉ. शंकरराव चव्हाण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में हुई है।
डॉक्टरों और डीन के खिलाफ मामला दर्ज
घटना के बाद प्रसव विभाव के डॉक्टरों और डीन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। महाराष्ट्र पुलिस के अनुसार, उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा ३०४ और ३४ के तहत एफआईआर दर्ज की गई है।

अन्य समाचार