" /> हमारे पैड पर तूने लेटर क्यों लिखा?… मीरा-भायंदर मनपा में भाजपा की अंतर्कलह चरम पर

हमारे पैड पर तूने लेटर क्यों लिखा?… मीरा-भायंदर मनपा में भाजपा की अंतर्कलह चरम पर

 भाजपा सभापति ने ही समिति सदस्य पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप
 गलत तरीके से निकासी कर प्रभाग निधि का हुआ दुरुपयोग

मीरा-भायंदर भाजपा में रोज नया भूचाल दिखाई दे रहा है। कभी पार्टी में अंतर्कलह, तो कभी गुटबाजी, तो कभी जिलाध्यक्ष, उपमहापौर पद को लेकर खींचतान जैसी घटनाएं एक के बाद एक घटित हो ही रही थीं कि अब एक नया मामला सामने आ गया है। भाजपा की पूर्व सभापति वीणा भोईर ने भाजपा के ही प्रभाग समिति सदस्य सज्जी आयप्पन के खिलाफ उनके लेटर हेड का दुरुपयोग कर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा दिया है। इस आशय का पत्र भोईर ने मनपा आयुक्त को देकर इसकी जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है।
ये है पूरा मामला
वीणा भोईर ने सज्जी अयप्पन पर आरोप लगाया है कि उनके ३१ मार्च २०२० के सभापति कार्यकाल के दौरान सज्जी ने उनके नाम का डुप्लीकेट लेटर हेड बनाकर मनपा से निधि की मांग की थी, जबकि भोईर का कहना है कि उन्होंने किसी भी समिति सदस्य के लिए अपने लेटर हेड का प्रयोग नहीं किया। इस विषय से संबंधित कोई मीटिंग भी समिति में नहीं ली गई थी। जिस लेटर हेड के माध्यम से सज्जी ने १० लाख रुपए के प्रभाग निधि की मांग की है, उस पर उनके बोगस हस्ताक्षर किए गए हैं।
कांग्रेस हुई आक्रामक
इस मामले में स्थानीय कांग्रेस भी अब आक्रामक हो गई है। कांग्रेस ने इसे सत्ताधारी भाजपा और मनपा के स्वास्थ्य विभाग की मिलीभगत से कोरोना स्वैâम किए जाने का आरोप लगाया है। शुक्रवार को मनपा पत्रकार कक्ष में एक प्रेस वार्ता के दौरान कांग्रेस के नगरसेवक प्रमोद सामंत, राजीव मेहरा व अनिल सावंत ने इस प्रकरण में कई मुद्दे उपस्थित किए, जिसमें भाजपा के ही सभापति द्वारा भाजपा के ही समिति सदस्य की १० लाख की निधि कोविड -१९ के कार्य के लिए इस्तेमाल करने की सिफारिश की गई है। मुख्य बात यह है कि यह पत्र ६ मार्च २०२० को लिखा गया है, जबकि कोरोना काल की घोषणा २२ मार्च २०२० के बाद जाहिर की गई थी। इससे पूर्व उन्हें कोरोना की कल्पना कहां से आई? इस पत्र पर जावक क्रमांक २९१ लिखी गई है, जबकि राजीव मेहरा द्वारा सूचना अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में प्रभाग ६ के रजिस्टर में मार्च २०२० की आखिरी जावक क्रमांक २७३ है, जो कि १७ मार्च २०२० की है।

इस संदर्भ में सज्जी अयप्पन से पूछने पर उन्होंने सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया और कहा कि लेटर हेड पर तत्कालीन सभापति वीणा भोईर के ही हस्ताक्षर हैं। मैंने भी इसकी जांच व दोषी पर कार्रवाई की मांग मनपा आयुक्त व मीरा रोड पुलिस से की है।