मुख्यपृष्ठराजनीतिभाजप को क्यों पड़ रही है सहयोगी दल की जरूरत....

भाजप को क्यों पड़ रही है सहयोगी दल की जरूरत….

नई मुंबई/ गोविंद पाल
एनसीपी के विधायक शशिकांत शिंदे ने वाशी के विष्णु दास भावे नाट्यगृह में दो दिन पहले हुई एक बैठक में कहा कि जयंत पाटिल और गृहमंत्री अमित शाह के इस मुलाकात के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है। परंतु जयंत पाटिल कल महाविकास अघाड़ी की बैठक में मौजूद थे, और उन्हें इंडिया कार्यक्रम को सफल बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने कहा कि शरद पवार की भूमिका स्पष्ट है और वह 15 अगस्त से महाराष्ट्र का दौरा करेंगे।

आगे उन्होंने कहा कि यह चर्चा हमेशा होती रहती है कि भाजपा जब इतनी सक्षम है, भाजपा ने बड़े बड़े कार्य किए हैं, सरकार भी अच्छी तरह से चल रही है, परंतु यहां सरकार बनाने के बाद उसे सहयोगी दलों की आवश्यकता क्यों पड़ गई ! मुझे नहीं पता कि बहुमत के साथ सरकार चल रही थी, तो फिर उन्हें अजित पवार को अपने साथ लेने की जरूरत नहीं थी। एनसीपी को तोड़ने के पीछे इनकी साजिश क्या है यह मेरे समझ से परे है। इसका मतलब है कि जनमानस में आक्रोश का माहौल है। लोकसभा चुनाव को लेकर जो भी खबरें आ रही हैं, उससे इन्हें साफ संकेत मिल रहा है कि लोग इनके खिलाफ हैं, इसलिए भाजपा दूसरे पार्टी के लोगों को अपने दल में शामिल करने की कोशिश कर रही है, लेकिन उसे सफलता नहीं मिलेगी। महाराष्ट्र में एकमात्र आशाजनक चेहरा अगर कोई है तो वह शरद पवार का है। इसलिए मैं अन्य लोगों के बारे में बात नहीं करूंगा।

अन्य समाचार