मुख्यपृष्ठनए समाचारप्रदूषण घटाएंगे ईवी को बढ़ाएंगे, पर्यायी ईंधन को देंगे प्रोत्साहन... मुख्यमंत्री उद्धव...

प्रदूषण घटाएंगे ईवी को बढ़ाएंगे, पर्यायी ईंधन को देंगे प्रोत्साहन… मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया

• वैकल्पिक ईंधन सम्मेलन का उद्घाटन
सामना संवाददाता / मुंबई । महाराष्ट्र में वैकल्पिक ईंधन से चलनेवाले वाहनों का उत्पादन करने वाले उद्योगकंपनियों को अनुकूल वातावरण दिया जाएगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने औद्योगिक कंपनियों को यह आश्वासन देते हुए कहा कि राज्य में ऐसे उद्योग स्थापित करने में आनेवाली कठिनाइयों को दूर कर इच्छुक उद्यमियों को सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से कोरोना महामारी है उसी तरह यह प्रदूषण भी महामारी है। इसके हानिकारक प्रभाव से क्लाइमेट चेंज को दुनिया महसूस कर रही है। इससे बचने के लिए जरूरी है कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना सतत विकास पर ध्यान दिया जाए। सरकार राज्य में प्रदूषण को घटाने के लिए ईवी वाहनों के उपयोग को बढ़ाएगी।
मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि लोग पेट्रोल-डीजल का वैकल्पिक र्इंधन जैसे विकल्प चाहते हैं। इसके लिए औद्योगिक कंपनियों को आगे आने की जरूरत है। उद्योग शुरू करने में बाधाएं आने पर विकास धीमा हो जाता है, इसे ध्यान में रखते हुए उद्योगों के लिए अनुकूल वातावरण उपलब्ध कराने पर सरकार अपने स्तर पर काम कर रही है। पुणे में वैकल्पिक र्इंधन उद्यमियों और निवेशकों के सम्मेलन के उद्घाटन के मौके पर वे बोल रहे थे। इस मौके पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार, पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे, उद्योगमंत्री सुभाष देसाई, ऊर्जा मंत्री नितिन राऊत, अतिरिक्त मुख्य सचिव आशीष कुमार सिंह आदि लोग उपस्थित थे।
उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र एक ऐसा राज्य है, जो हमेशा आगे बढ़ रहा है और देश का मार्गदर्शन कर रहा है। यहां के विकास प्रणाली की नकल पूरे देश में की जाती है। मुझे विश्वास है कि भविष्य में महाराष्ट्र वैकल्पिक र्इंधन के क्षेत्र में बेहतर काम करेगा। मुख्यमंत्री ने सम्मेलन के आयोजकों और पर्यावरण, उद्योग ऊर्जा विभाग को बधाई देते हुए कहा कि वैकल्पिक र्इंधन पर्यावरण के अनुकूल और सतत विकास के लिए एक बड़ा कदम है।
ई-वाहनों की बिक्री में महाराष्ट्र अव्वल – पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे
पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि पारंपरिक र्इंधन के बड़े पैमाने पर उपयोग से पर्यावरण पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है। वाहनों से होने वाले प्रदूषण में इसका बड़ा योगदान है। राज्य सरकार ने ईवी पॉलिसी लाकर राज्य में ईवी वाहनों को खरीदी के लिए काफी छूट दी है। पिछले दो वर्षों में राज्य में इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को लेकर भारी जागरूकता आई है। उन्होंने कहा कि ईवी वाहनों की बिक्री पहले २ से ३ हजार हुआ करती थी, जो अब बढ़कर २२ हजार से अधिक हो गई है। देश में दोपहिया और चौपहिया इलेक्ट्रॉनिक वाहनों की बिक्री में महाराष्ट्र अग्रणी है। इसके अतिरिक्त अब राज्य में ई-रिक्शा को बढ़ावा देने पर जोर दिया जा रहा है।

राज्य में नए उद्योगों को तरजीह – उद्योग मंत्री सुभाष देसाई
उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि पुणे में वैकल्पिक र्इंधन सम्मेलन आयोजित करने का बड़ा मतलब है। इस सम्मेलन से निकले विचारों को साकार करने का प्रयास किया जाएगा। महाराष्ट्र एक ऐसा राज्य है, जो नए विचारों को बढ़ावा देता है। कोरोना काल में भी उद्योग की गाड़ी को नहीं रोका गया। परिणाम स्वरूप राज्य में रोजगार में वृद्धि हुई है। पिछले दो वर्षों में विभिन्न कंपनियों से करार कर ३ लाख करोड़ रुपए से अधिक का निवेश लाया गया है, जिससे तीन लाख से अधिक नौकरियां पैदा होंगी।

अन्य समाचार