मुख्यपृष्ठनए समाचारदूध की उचित कीमत नहीं मिलने पर मंत्री के घर के सामने...

दूध की उचित कीमत नहीं मिलने पर मंत्री के घर के सामने बहाएंगे दूध! … किसान सभा ने दी चेतावनी

सामना संवाददाता / मुंबई
त्योहार के दौरान राज्य में निजी एवं सहकारी दुग्ध उत्पादक संघ ने दुग्ध उत्पादकों को लूटना शुरू कर दिया है और दूध की कीमत को घटाकर २७ रुपए कर दिया है। दुग्ध विकास मंत्री दूध के दाम ३५ रुपए करें अन्यथा त्योहारी सीजन में मंत्री के घर के सामने दूध बहाया जाएगा, ऐसी चेतावनी किसान सभा द्वारा वर्तमान सरकार को दी गई है।
आनेवाले समय में और गिरेगा रेट
दूध के दामों को लेकर किसान सभा आक्रामक हो गई है। किसान सभा के नेता डॉ. अजीत नवले ने विस्तृत जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि मिलीभगत कर ३५ रुपए का रेट घटाकर २७ रुपए कर दिया गया है। ऐसा संकेत है कि आनेवाले समय में यह २५ रुपए तक गिर जाएगा। डेयरी विकास मंत्री और डेयरी विकास विभाग को इसमें हस्तक्षेप कर किसानों को कम से कम ३५ रुपए का भुगतान करना चाहिए, अन्यथा किसान संघर्ष समिति व किसान सभा की ओर से दूध उत्पादक मंत्री के दरवाजे पर आकर दूध बहाया जाएगा। अगर सरकार नहीं चाहती कि त्योहारी सीजन में किसान आंदोलन करें तो दूध का दाम कम से कम ३५ रुपए करें और किसानों की लूट बंद करें, ऐसी अपील डॉ. अजीत नवले ने डेयरी विकास मंत्री से की।
त्योहारी सीजन में नहीं दे रहा कोई ध्यान
नवले ने आगे कहा कि दूध के दाम इस तरह कम न हों, इसके लिए डेयरी विकास मंत्री की पहल पर एक कमेटी बनाई गई थी। इसमें निजी एवं सहकारी दुग्ध संघों के प्रतिनिधि शामिल थे। कमेटी ने रेट ३५ रुपए करने की घोषणा की थी, लेकिन अब त्योहारी सीजन में कोई ध्यान नहीं दे रहा है, यह मानते हुए निजी और सहकारी दुग्ध संघों ने एकजुट होकर कमेटी के पैâसले को नजरअंदाज करने की कोशिश की गई है।

अन्य समाचार