मुख्यपृष्ठनए समाचारशरद पवार का आशीर्वाद लेकर रोहित ईडी जांच के लिए पहुंचे!

शरद पवार का आशीर्वाद लेकर रोहित ईडी जांच के लिए पहुंचे!

ईडी कार्यालय के बाहर राष्ट्रवादी कांग्रेस कार्यकताओं की नारेबाजी
सामना संवाददाता / मुंबई
बारामती एग्रो कंपनी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायक रोहित पवार से पूछताछ की। जब रोहित पवार पूछताछ के लिए ईडी दफ्तर जा रहे थे तो उनके साथ राष्ट्रवादी सांसद सुप्रिया सुले सहित सैकड़ों कार्यकर्ता भी मौजूद थे। कार्यकर्ता जोरदार नारेबाजी करते हुए ईडी दफ्तर पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने ईडी दफ्तर के बाहर धरना देकर चेतावनी दी थी कि जब तक रोहित पवार की जांच पूरी नहीं हो जाती और वे बाहर नहीं आ जाते, तब तक वे यहां से नहीं हटेंगे।
ईडी दफ्तर जाने से पहले रोहित पवार ने विधान भवन जाकर छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा को नमन किया। इसके बाद वह कार्यकर्ताओं से घिरे एनसीपी के क्षेत्रीय कार्यालय पहुंचे, वहां उन्होंने पार्टी अध्यक्ष शरद पवार का आशीर्वाद लिया। इस मौके पर शरद पवार ने उन्हें यशवंतराव चव्हाण की एक किताब उपहार में दी और कहा कि वे यशवंतराव के विचारों के साथ संविधान के लिए लड़ें। सुप्रिया सुले ने रोहित पवार को संविधान की प्रति भी सौंपी, इसके बाद रोहित पवार करीब ११ बजे ईडी दफ्तर पहुंचे।
महाविकास आघाड़ी रोहित पवार
के साथ है – संजय राऊत
रोहित पवार के खिलाफ ईडी की कार्रवाई पर बोलते हुए शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत ने भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ईडी भाजपा की विस्तारित शाखा है और भाजपा के खिलाफ आवाज उठाने वालों पर ईडी अपना शिकंजा कस रही है। उन्होंने कहा कि सिर्फ राष्ट्रवादी ही नहीं, बल्कि पूरी महाविकास आघाड़ी रोहित पवार के साथ है। उन्होंने कहा, विधायक रवींद्र वायकर हों या राजन साल्वी हों, उनके पीछे सिर्फ शिवसेना ही नहीं बल्कि पूरी महाविकास आघाड़ी उनके साथ है, ऐसा भी राऊत ने कहा। संजय राऊत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ईडी या केंद्रीय जांच एजेंसी अब स्वतंत्र नहीं, बल्कि भाजपा की शाखाएं बन गई हैं। इनका इस्तेमाल उन लोगों के खिलाफ किया जाता है, जो लोकतंत्र की रक्षा के लिए खड़े होते हैं। संजय राऊत ने कहा कि भाजपा की वॉशिंग मशीन में शामिल होनेवाले ही बच निकलते हैं। इस दौरान उन्होंने अजीत पवार का उदाहरण भी दिया। अजीत पवार को ईडी ने प्रताड़ित किया। लेकिन आज वे चैन की नींद सोते हैं क्योंकि अब वे भाजपा के साथ हैं, ऐसा तंज भी राऊत ने कसा।
जिन घोटालों का पर्दाफाश किया, ईडी उन्हें नोटिस नहीं भेजती
शिवसेना ने जिन घोटालों का पर्दाफाश किया ईडी उन्हें नोटिस नहीं भेजती। हमें ही नोटिस भेजी जाती है, ऐसा आरोप भी संजय राऊत ने लगाया। उन्होंने कहा कि वर्ली की जिस इमारत को प्रफुल्ल पटेल से जब्त किया गया था, उसी में ईडी ने अपना दफ्तर बना लिया है। ईडी ने सूरज चव्हाण, किशोरी पेडणेकर, रवींद्र वायकर को नोटिस भेजा, लेकिन उन लोगों का क्या जिनके खिलाफ वास्तव में ईडी को कार्रवाई करनी चाहिए? राहुल कुल घोटाला, स्वास्थ्य विभाग के एंबुलेंस घोटालों का क्या? संजय राऊत ने कहा कि आज के मुख्यमंत्री और उनके लोग ईडी के डर से भाजपा में गए हैं।
जांच में पूरा सहयोग करूंगा -रोहित पवार
पूछताछ के लिए जाने से पहले रोहित पवार ने मीडिया से कहा कि उन्होंने ईडी द्वारा अब तक मांगे गए सभी दस्तावेज दे दिए हैं और जांच में पूरा सहयोग करेंगे। महाशक्ति के खिलाफ आम लोगों की आवाज उठाने का काम करने के कारण ही हमारे खिलाफ ईडी की यह कार्रवाई शुरू की गई है आम जनता की भावना है, ऐसा भी रोहित पवार ने कहा। उन्होंने आगे कहा कि जब मैं गलत नहीं हूं तो फिर डरने की क्या बात है? अगर ईडी मुझे घंटों हिरासत में रखेगी तो मैं सोचूंगा कि सरकार के खिलाफ वैâसी रणनीति बनाऊं, ऐसा भी उन्होंने कहा।
रोहित पवार जो फाइल ईडी दफ्तर ले गए थे, उसमें महाराष्ट्र के सभी महापुरुषों और समाज सुधारकों की तस्वीरें थीं। इस पर विचारों की विरासत भी लिखी गई बेलार्ड पियर क्षेत्र में दमनकारी कार्रवाई के विरोध में ‘भागो मत बल्कि लड़ो’ के बैनर लगाए गए।

अन्य समाचार