मुख्यपृष्ठनए समाचारमहिलाओं पर अत्याचार हो रहा है, सरकार चुप है... क्या यही राम...

महिलाओं पर अत्याचार हो रहा है, सरकार चुप है… क्या यही राम राज है?-उद्धव ठाकरे का सरकार से तीखा सवाल

सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कल सरकार से पूछा कि यदि मणिपुर और हरियाणा जैसी घटनाएं घटित होती हैं तथा महिलाओं को इस तरह से अपमानित व बदनाम किया जाता है, तो इसे ‘राम राज’ क्यों कहा जाना चाहिए? उन्होंने कहा, अगर ऐसी घटनाएं हो रही हैं तो इससे साबित होता है कि भाजपा देश नहीं चला सकती।
उद्धव ठाकरे ने कल विधान भवन में पत्रकारों से शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान के संस्थापक संभाजी भिड़े द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व महात्मा ज्योतिबा फुले के बारे में बातचीत की। इस मौके पर उन्होंने मणिपुर के हालात पर भी अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने चेतावनी दी कि लोगों को इतिहास में शामिल करना और देश के भविष्य को खत्म करना बहुत खतरनाक है।
हम भविष्य की ओर देखे बिना इतिहास को दोबारा जी रहे हैं। भिड़े गुरुजी को छात्रों को अच्छी शिक्षा देनी चाहिए, ऐसा कहते हुए उन्होंने यह चेतावनी भी दी कि हमें इससे कुछ नहीं मिलेगा। उन्होंने यह भी याद दिलाया कि मणिपुर में महिला राज्यपाल है, देश की राष्ट्रपति भी एक महिला ही हैं। इसके बाद भी मणिपुर में महिलाओं के खिलाफ ऐसा अन्याय होना दुर्भाग्यपूर्ण है, ऐसा पक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा। उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि अगर ऐसी घिनौनी घटनाएं हो रही हैं तो डबल इंजन सरकार क्या कर रही है? समृद्धि राजमार्ग पर लगातार हो रही दुर्घटनाओं के लिए उन्होंने घातक त्रुटियों को कारण बताते हुए कहा कि यह झकझोरने वाली बात है।
भिड़े को लेकर सरकार अपनी भूमिका स्पष्ट करे
– संभाजी भिड़े के बारे में मैं क्या कहूं। उन्होंने कहा कि हर बार, हर बात पर मैं ही प्रतिक्रिया वैâसे दूं। इस मामले में शासकों को बोलना चाहिए। भिड़े का बयान सही है या गलत यह शासनकर्ताओं को स्पष्ट बताना चाहिए। अगर उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भिड़े को गुरुजी कह रहे हैं तो उनका सब कुछ सही है, ऐसा ही कहना चाहिए, ऐसा तंज उद्धव ठाकरे ने कसा।
शिवसेना ने हमेशा महिलाओं का सम्मान किया
शिवसेना ने सदैव महिलाओं का सम्मान किया है। हमने राज्य में शक्ति विधेयक लाने की पहल की। हमने विधान परिषद में उपाध्यक्ष पद पर एक महिला को बैठाया। ‘शक्ति’ कानून भी हम ही लाए। शिवसेना ने जिन्हें महिला के रूप में विधान परिषद के उपाध्यक्ष पद पर बैठाया, उनके द्वारा चर्चा न होने देना, जैसा बर्ताव अप्रत्याशित है। विचारधारा इतनी वैâसे बदल गई? ऐसा तंज भी उन्होंने कसा।
जनता भाजपा को सबक सिखाएगी
महाराष्ट्र में जोड़-तोड़ करके भाजपा सत्ता में आई। कर्नाटक में जनता ने संयम बरतते हुए भाजपा को बाहर कर दिया। महाराष्ट्र में भी जनता भाजपा को उसकी जगह दिखाएगी, ऐसा विश्वास भी उन्होंने व्यक्त किया।

भाजपा ने महाराष्ट्र में जोड़-तोड़ करके सत्ता स्थापित की। कर्नाटक में जनता ने संयम बरतते हुए भाजपा को बाहर का रास्ता दिखा दिया। महाराष्ट्र में भी जनता भाजपा को सबक सिखाएगी!

अन्य समाचार