मुख्यपृष्ठटॉप समाचारछोड़ेंगे न हम तेरा साथ!... पत्नी की जान बचाने के लिए तेंदुए...

छोड़ेंगे न हम तेरा साथ!… पत्नी की जान बचाने के लिए तेंदुए से भिड़ गया ७२ साल का पति

• गांव में रात के वक्त सो रहे थे पति-पत्नी
• खतरनाक तेंदुए ने पत्नी पर कर दिया हमला

योगेंद्र सिंह ठाकुर / पालघर । कहा जाता है कि फिल्में असल जीवन से सबक लेकर ही बनती हैं या उनमें रीयल लाइफ की कुछ परछार्इं जरूर दिखाई देती है। हम सभी ने बॉलीवुड की कई ऐसी फिल्में देखी होंगी, जिसमें हीरो अपनी जान की बाजी लगाकर अपनी हीरोइन की जान बचाता है। कुछ वैसी ही कहानी पालघर के मोखाड़ा इलाके से सामने आई है। यहां के पोशेरा के पारध्याची मेंट गांव में रहनेवाले काशीनाथ सापटे (७२) अपनी पत्नी पार्वती सापटे (६५) के साथ रहते हैं। शुक्रवार देर रात दोनों सोए हुए थे, तभी पार्वती को बाहर से कुछ आवाज सुनाई दी और जब वह देखने के लिए निकली तो एक तेंदुए ने उन पर हमला कर दिया। इतने में काशीनाथ की भी आंख खुल गई और वह अपनी पत्नी को बचाने के लिए तेंदुए से भिड़ गए। काशीनाथ ने तेंदुए से दो-दो हाथ कर पत्नी की जान तो बचा ली लेकिन इस हमले में पार्वती बुरी तरह जख्मी हो गई। पार्वती का इलाज नासिक के सिविल हॉस्पिटल में जारी है। काशीनाथ सापटे ने जिस बहादुरी से अपनी जान पर खेलकर खतरनाक तेंदुए का मुकाबला किया और पत्नी की जान बचाई, इसकी लोग जमकर तारीफ कर रहे हैंै।
स्थानीय लोग बताते हैं कि पार्वती पर हमला करने के कुछ देर बाद तेंदुआ फिर से देखा गया, जिससे ग्रामीण किसी अनहोनी को लेकर खौफजदा हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद वन परिक्षेत्र अधिकारी राजेंद्र निकम ने अपनी टीम के साथ गांव का दौरा किया और ग्रामीणों को सतर्क रहने के लिए कहा है। फिलहाल ग्रामीण और वन विभाग की टीम गांव में गश्त कर रही है। आतंक का पर्याय बने तेंदुए का खौफ गांव के लोगों में साफ देखा जा सकता है।

अन्य समाचार