मुख्यपृष्ठसमाचार‘झोलों ’ में होता है कामकाज! यूपी के अलीगढ़ में एक ऐसा...

‘झोलों ’ में होता है कामकाज! यूपी के अलीगढ़ में एक ऐसा विभाग

  • अफसर फाइलों में गड़बड़झाला कर भेजते हैं झूठे आंकड़े

फाइलों में गांव का मौसम गुलाबी है मगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी है। मशहूर शायर अदम गोंडवी का यह शेर यूपी के अलीगढ़ में गांव-देहात के विकास पर बिल्कुल सटीक बैठता है। अफसर फाइलों में गड़बड़झाला कर शासन स्तर पर झूठे आंकड़े भेज रहे हैं। अब पंचायतों में कंप्यूटर की स्थापना को ही ले लीजिए। जिले के तमाम पंचायत भवनों में अब तक कंप्यूटर नहीं लगे हैं। ‘झोलों’ में गांव की सरकार चल रही है। कुछ पंचायतों में भुगतान के बाद भी कंप्यूटर नहीं लगे हैं। वर्ष २०१७ में प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद गांव-देहात के विकास कार्यों को तेजी से आगे बढ़ने की बात तो कही गई और सबसे अधिक काम पंचायत के भवनों पर अधिकारी काम करने की बात तो कर रहे हैं लेकिन हकीकत सब दावों की पोल खोल कर रख दी है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार अलीगढ़ जिले में पिछले तीन सालों में कुल ८६७ पंचायतों में से ६४९ पंचायत भवन नए बनाए गए हैं। पुराने भवनों का भी कायाकल्प अभी तक नहीं हुआ है। करीब ३२ करोड़ की धनराशि इन्हीं पर खर्च हुई। सरकार अब काफी समय से इन पंचायत भवनों के उपयोग पर जोर तो दे रही है। लेकिन हर पंचायत भवन में बैठने के लिए ग्राम पंचायत में एक कंप्यूटर ऑपरेटर की भर्ती तक नहीं की गई है।
कार्यालय पर खर्च केवल दिखावा
पंचायत भवन कार्यालय में सामान की आपूर्ति के लिए सरकार ने १.७५ लाख का बजट निर्धारित किया लेकिन यह केवल दिखावा ही साबित हुआ है। इनमें कंप्यूटर के अलावा कुर्सी, आफिस मेज, स्टील ऑलमारी, पंखा, इनवर्टर, सीसीटीवी कैमरा आदि शामिल हैं, लेकिन जिले की कई ग्राम पंचायतों ने भुगतान तो कर दिया है, लेकिन सभी सामानों की पूर्ति अभी तक नहीं हुई है। कुछ ने तो निजी घरों में सामान लगा लिए हैं। सबसे अधिक अव्यवस्था कंप्यूटर को लेकर है। पंचायत भवनों से कंप्यूटर नदारद हैं, जबकि रिकॉर्ड में अधिकतर पंचायत में स्थापना हो चुकी है।
कंप्यूटर खरीद में गड़बड़ी
ग्राम पंचायतों के लिए कंप्यूटर खरीद में ही बड़े स्तर पर गड़बड़ी की शिकायतें आ रही हैं। आशंका है कि जिले के अधिकतर ब्लाकों में कंप्यूटर की खरीदी की गई है। चार-पांच फर्मों के माध्यम से ही कंप्यूटर की आपूर्ति होनी थी लेकिन कमीशन के फेर में बिना बिल व कोटेशन के ही कंप्यूटर की आपूर्ति नहीं की गई है। कुछ ग्राम पंचायतों में जिला स्तर से ही जबरन कंप्यूटर भेजे तो गए लेकिन अब इनके भुगतान भी फंसे हुए हैं। इगलास ब्लाक में करीब २० कंप्यूटर का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। अगर इस मामले की जांच हुई तो कई बड़े जिम्मेदारों की भी इसमें गर्दन फंसनी तय है।

अन्य समाचार