मुख्यपृष्ठनए समाचारबेरोजगारी व बढ़ते कर्ज पर चिंता करें! ...कपिल सिब्बल ने वित्तमंत्री को...

बेरोजगारी व बढ़ते कर्ज पर चिंता करें! …कपिल सिब्बल ने वित्तमंत्री को दिखाया आईना

सामना संवाददाता / नई दिल्ली
राज्यसभा सदस्य कपिल सिब्बल ने बारिश से तबाही के बीच तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन के विपक्षी गुट ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस’ (इंडिया) की बैठक में शामिल होने के लिए उनकी आलोचना करने पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर निशाना साधा और कहा कि इसके बजाय उन्हें बेरोजगारी और देश पर बढ़ते कर्ज जैसे मुद्दों पर चिंता करनी चाहिए।
वित्त मंत्री ने शुक्रवार को कहा था कि तमिलनाडु जब इस बड़ी आपदा से जूझ रहा था तो राज्य के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन राज्य के लोगों के बीच होने के बजाय १९ दिसंबर को विपक्षी गुट ‘इंडिया’ के घटक दलों के नेताओं के साथ दिल्ली में थे। सिब्बल ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा, ‘जब तमिलनाडु बारिश, बाढ़ से जूझ रहा था उस वक्त स्टालिन के ‘इंडिया’ की बैठक में शामिल होने पर सीतारमण ने उन पर निशाना साधा है। इसके बजाय यदि आपके पास समय हो तो इन पर चिंता करें-कम रोज़गार, बेरोजगारी, भारत पर बढ़ता कर्ज़, कुपोषित बच्चे, भूख, गरीबी और हां महिला पहलवानों पर भी।
दूसरी तरफ कल एक बड़ी खबर सामने आई। कांग्रेस ने २०२४ के लोकसभा चुनावों के लिए अपनी घोषणापत्र समिति का गठन करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को बड़ी जिम्मेदारी दी है। कांग्रेस ने उन्हें इस समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया है। छत्तीसगढ़ के पूर्व उपमुख्यमंत्री टी एस सिंह देव को इस महत्वपूर्ण पैनल का संयोजक बनाया गया है।
१६ सदस्यीय पैनल में कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शामिल हैं। यह घटनाक्रम कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की महत्वपूर्ण बैठक के एक दिन बाद आया है, जहां पार्टी ने अपनी लोकसभा चुनाव रणनीति पर चर्चा की और कहा कि वह जल्द ही अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा करेगी।
तमिलनाडु में मची तबाही
दिसंबर का महीना तमिलनाडु के उत्तरी और दक्षिणी जिलों में बारिश और जलभराव जैसी चुनौतियां लेकर आया। राजधानी चेन्नई समेत कई इलाकों में आसमानी आफत ने जमकर कहर बरपाया, लगातार हुई मूसलाधार बारिश की वजह से दक्षिणी तमिलनाडु के चार जिलों में ३१ लोगों की जान चली गई, वहीं महीने के पहले हफ्ते में चेन्नई में बारिश की वजह से १७ लोगों की मौत हुई थी। तमिलनाडु राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक चेन्नई जिले में ३ से लेकर ५ दिसंबर के बीच दो दिनों के अंदर औसतन ४०० मिमी बारिश हुई थी। इसके अलावा थूथुकुडी जिले के कल्याणपट्टिनम में २४ घंटों में रिकॉर्ड ९५० मिमी बारिश हुई थी।

अन्य समाचार