मुख्यपृष्ठनए समाचारयोगी जी, यूपी में ये क्या हो रहा है... बीएचयू में सिर्फ...

योगी जी, यूपी में ये क्या हो रहा है… बीएचयू में सिर्फ छेड़खानी नहीं, छात्रा के साथ गन प्वांइट पर हुआ था गैंगरेप!

•  मजिस्ट्रेट के सामने पीड़िता ने दिया बयान
•  एफआईआर में जोड़ी गई नई धाराएं
सामना संवाददाता / वाराणसी
बीएचयू में आईआईटी की छात्रा के कपड़े उतरवाकर अश्लीलता ही नहीं की गई थी, बल्कि गन प्वांइट पर उसका गैंगरेप भी हुआ था। मजिस्ट्रेट के सामने दिए गए बयान के बाद एफआईआर में गैंगरेप की धारा जोड़ी गई है। गैंगरेप की धारा जोड़ने के साथ ही पूरे मामले की जांच लंका के एसएचओ शिवाकांत मिश्रा को सौंप दी गई है। हैरानी की बात यह है कि एक नवंबर को हुई घटना के नौ दिन बाद भी आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं।

यूपी की कानून-व्यवस्था को लेकर हो रहे तमाम दावे इस खौफनाक घटना और आरोपियों का सुराग तक नहीं लगने से सवालों के घेरे में है। लोग पूछ रहे हैं कि कानून-व्यवस्था का दम भरनेवाले योगी जी के यूपी में ये क्या हो रहा है। पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने भी गुरुवार को ट्वीट कर इस घटना के साथ ही यूपी में हुई कई घटनाओं का ब्योरा देते हुए कानून-व्यवस्था को लेकर निशाना साधा है। बता दें कि पीड़िता छात्रा परिसर के ही छात्रावास में रहती है। एक नवंबर की देर रात छात्रा पढ़ाई के बाद थोड़ी देर के लिए परिसर में ही वॉक के लिए निकली थी। इसी दौरान रास्ते में उसे एक दोस्त भी मिल गया। दोनों टहलते हुए कर्मनबीर बाबा के मंदिर की तरफ चले गए। इसी बीच बुलेट बाइक से आए तीन लड़कों ने दोनों को रोक लिया। गन प्वाइंट पर लेते हुए छात्रा के साथ मौजूद उसके दोस्त को अलग कर मारा पीटा। फिर छात्रा के साथ जबरदस्ती शुरू की। उसका मुंह दबाकर एक तरफ ले गए। उसके सारे कपड़े उतार दिए। अश्लीलता की और इसका वीडियो भी बनाया। इसके बाद वे फरार हो गए। अभी तक पुलिस में दर्ज एफआईआर में यही सूचना थी। बुधवार को छात्रा का मजिस्ट्रेट के सामने बयान हुआ तो गैंगरेप की धारा जोड़ी गई। बताया जा रहा है कि छात्रा के साथ गैंगरेप भी हुआ था।

एसआईटी जांच की भी मांग
छात्र-छात्राएं आरोपितों की गिरफ्तारी के साथ पूरे प्रकरण की एसआईटी जांच की भी मांग कर रही हैं। इस मामले में पुलिस के अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंचने से उनकी नाराजगी है। क्राइम ब्रांच समेत पुलिस की पांच टीमें आरोपियों की गिरफ्तारी में लगी हैं। धरना स्थल पर आईआईटियंस नोट्स, लैपटॉप और मोबाइल से पढ़ाई करते नजर आए। उन्होंने कहा कि आरोपियों के पकड़े जाने तक सड़क पर ही इंजीनियरिंग की पढ़ाई होगी। अब धरना दे रहे छात्र-छात्रा प्रशासन से पूछ रहे हैं कि आरोपी कब पकड़े जाएंगे?

अन्य समाचार