मुख्यपृष्ठनए समाचारदोषी ठहराते ही... योगी के कैबिनेट मंत्री हुए फुर्र!

दोषी ठहराते ही… योगी के कैबिनेट मंत्री हुए फुर्र!

  • राकेश सचान कोर्ट से आदेश की कॉपी लेकर हुए फरार
  • अवैध हथियार केस में पाए गए थे दोषी
  • कई संगीन अपराधों में आ चुका है नाम

सामना संवाददाता / लखनऊ
सत्ता की खुमारी भाजपा के मंत्री, विधायक और नेताओं के सिर चढ़कर बोलने लगी है। इसलिए भाजपा और उसके सहयोगी संगठनों से संबंधित लोगों की अजीबोगरीब और अवांछित हरकतों की खबरें अब लगातार सामने आने लगी हैं। दिल्ली से सटे नोएडा में भाजपा के कथित नेता श्रीकांत त्यागी द्वारा सोसायटी की महिला से अभद्रता का वीड़ियो सभी ने देखा है। इसी बीच यूपी के बरेली में एक भाजपाई नेता द्वारा नाले के विवाद में एक महिला और उसकी बेटी को घर में घुसकर पीटने की जानकारी सामने आई है। भाजपा के इन छुटभैये नेताओं को ऐसा करने का पॉवर अपने बड़े नेताओं से मिल रहा है। इसका नमूना योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री राकेश सचान की एक हरकत के रूप में देखने को मिला, जिसमें मंत्री खुद को अदालत से भी ऊपर मान बैठे। एक मामले में अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद मंत्री सचान आदेश की कॉपी लेकर अदालत से फुर्र  हो गए।
मंत्री राकेश सचान के खिलाफ कानपुर की अपर मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट-३ की अदालत में अवैध शस्त्र का मामला चल रहा था। गत शनिवार को जैसे ही कोर्ट ने सचान को दोषी ठहराया। इसके बाद सजा सुनाने से पहले योगी के कैबिनेट मंत्री दोषसिद्धि आदेश की मूल प्रति लेकर कोर्ट रूम से फुर्र हो गए। कोर्ट की पेशकार ने मंत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए कोतवाली में तहरीर दी है। इससे पीएम मोदी, सीएम योगी और भाजपा की काफी फजीहत हो रही है। क्योंकि सचान का नाम पहले भी कई संगीन अपराधों में सामने आ चुका है। जॉइंट कमिश्नर आनंद प्रकाश तिवारी ने कोतवाली में आकर बताया कि कोर्ट की रीडर कामिनी की तरफ से शिकायती आवेदन मिला है। इस मामले में जांच के बाद हम कार्रवाई करेंगे। इसकी जांच कोतवाली एसीपी को सौंपी गई है।
मंत्री संजय निषाद के खिलाफ गैर जमानती वारंट
एक और मंत्री संजय निषाद के कारण सीएम योगी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। कोर्ट ने संजय निषाद के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। कोर्ट ने १० अगस्त तक संजय निषाद को गिरफ्तार करके पेश करने का आदेश दिया है। उक्त आदेश के अनुपालन की जिम्मेदारी शाहपुर पुलिस को दी गई है। सीजेएम जगन्नाथ ने मत्स्य पालन मंत्री संजय निषाद को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है। ७ जून, २०१५ को सरकारी नौकरी में निषादों को ५ फीसदी आरक्षण देने की मांग को लेकर सहजनवा थाना इलाके के कसरवल में आंदोलन चल रहा था। रेलवे ट्रैक पर आंदोलनकारी बैठे थे। इस बीच, विवाद बढ़ा और पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इस दौरान एक शख्स की मौत हो गई थी। इससे गुस्साए आंदोलनकारियों ने पुलिस के कई वाहनों में आग लगा दी थी। इस हिंसा में २४ पुलिसकर्मी भी घायल हो गए थे।

अन्य समाचार