मुख्यपृष्ठनए समाचारचीटरों की चाल में फंसा युवक! ...कई राज्यों की पुलिस ने मांगा...

चीटरों की चाल में फंसा युवक! …कई राज्यों की पुलिस ने मांगा जवाब

जय सिंह / मुंबई
मुंबई उपनगर के कांदिवली में रहनेवाला एक उत्तर भारतीय परिवार ऑन लाइन ठगी करने वालों के जाल में ऐसा फंसा कि अब वह काम धंधा छोड़कर देश के कई राज्यों की पुलिस को जवाब देता फिर रहा है। ऑन लाइन हुई इस ठगी से इस परिवार के लोग भी परेशान हैं। इस युवक को अब तक मुंबई की डोंगरी सायबर सेल की पुलिस, गाजियाबाद पुलिस, बैंगलोर पुलिस और चेन्नई पुलिस आई टी एक्ट के तहत नोटिस भेजकर जांच के लिए बुला चुकी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, यह मामला नितेश सुभाष यादव नामक एक उत्तर भारतीय युवक से जुड़ा हुआ है। चीटरों ने इस युवक के खाते का इस्तेमाल कर करोडों रुपए की ठगी की है। डोंगरी पुलिस को दिए गए बयान के मुताबिक, करंट अकाउंट खोलने हेतु नितेश सुभाष यादव ने अपने कागजात एक मित्र कमलेश गुप्ता को दिया। कमलेश गुप्ता ने वह कागजात किसी जावेद नामक व्यक्ति को दिया। उन लोगों ने यस बैंक में खाता तो खोल दिया लेकिन बैंक के कागजात नितेश को देने के बजाय अपने पास यह कहकर रख लिए कि आपका लोन करवाने के लिए यह कागजात चाहिए। उसी दौरान नितेश को अपने गांव में रिश्तेदार की शादी में जाना पड़ा। गांव में नितेश के मित्र नीलेश का फोन आया भाई जल्दी आओ हमारे नए खाते से प्रâॉड हुआ है। दूसरी तरफ अभ्युदय बैंक ने नितेश का खाता सीज कर दिया। किसी अनहोनी से डरकर नितेश ने तुरंत मालवणी पुलिस थाने में लिखित शिकायत की और न्याय की गुहार लगाई। सूत्रों की मानें तो नितेश यादव ने जो खाता यस बैंक में खोला था, उस खाते में से २ करोड ६५ लाख रुपये का लेनदेन हुआ है। नितेश यादव को गाजियाबाद के इंदिरापुरम पुलिस थाने में अपराध शंख्या ०७८२/२३, सी.ई.एन. क्राइम पुलिस स्टेशन, साउथ डिवीजन, बंगलुरु सिटी और सेंट्रल क्राइम ब्रांच, सायबर क्राइम पुलिस स्टेशन, चेनई पुलिस ने भी नोटिस देकर जांच के लिए बुलाया है। मामले की जांच कर रहे एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, इस गिरोह ने कई स्टेट में तकरीबन ७ से ८ करोड़ रुपए का फर्जीवाड़ा किया है।

अन्य समाचार