मुख्यपृष्ठसमाचारसवाल हमारे जवाब आपके?

सवाल हमारे जवाब आपके?

‘जीएसटी’ वसूली का टारगेट पूरा करने के लिए राज्य सरकार जोरदार अभियान चला रही है। परंतु ‘वस्तु एवं सेवा कर’ विभाग को अधिकारों की जानकारी ही नहीं है। इस पर सत्र न्यायालय ने विभाग को फटकार लगाई है और कहा है कि इसी व्यवहार की वजह से सारे उद्योग गुजरात जा रहे हैं।
• ज्ञान का अभाव
मूलत: कोई भी नया कर लागू करने के बाद विभाग से संबंधित अधिकारियों को ट्रेनिंग दी जाती है मगर जीएसटी के बारे में ऐसा नहीं है। अधिकारियों को भी जानकारी की कमी है, जिसकी वजह से कई उद्योग महाराष्ट्र से बंद होकर अन्य राज्यों में जा रहे हैं।
– गीता हेरेकर, ठाणे

• व्यापारियों को सताया जा रहा है
सिर्फ और सिर्फ टारगेट पूरा करना ही इस समय राज्य सरकार का काम बन गया है। व्यापारी वर्ग दो साल के बाद थोड़ा संभला है मगर वस्तु और सेवा कर के नाम पर व्यापारी को महाराष्ट्र में सताया जा रहा है।
-अभय पांडेय, कल्याण

• सहूलियत देने में सरकार नाकाम
गुजरात जैसी सहूलियतें देने में महाराष्ट्र की मौजूदा राज्य सरकार नाकाम दिख रही है। उद्योगों के स्थलांतरित होने की वजह मनगढ़ंत ‘कर’ वसूली भी है, इस पर अंकुश जरूरी है।
-रोहित शुक्ला, डोंबिवली

• जीएसटी के नाम पर गैरकानूनी वसूली
केंद्र सरकार की जीएसटी वसूली को बढ़ाने के लिए राज्य सरकार के वसूली अधिकारी अब व्यापारियों पर गैरकानूनी हथकंडे अपना रहे हैं, जिससे व्यापारी परेशान होकर गुजरात की तरफ प्रस्थान कर रहे हैं और वे ऐसा क्यों न करें? ऐसी प्रतिक्रिया सत्र न्यायालय के न्यायाधीश ने एक मामले की सुनवाई के दौरान व्यक्त की है। राज्य सरकार कर्मचारियों को पहले जीएसटी वसूल करने का प्रशिक्षण दे, फिर काम पर लगाए।
-अंकित व्यवहारे, उल्हासनगर

• अधिकारियों की हरकतों से परेशान
जीएसटी अधिकारी व्यापारियों को परेशान कर रहे हैं। अन्य व्यापारी से खरीदे माल पर दोबारा जीएसटी भरवाना या यूं कहें कि जीएसटी के नाम पर उगाही जारी है। व्यापारियों को बुलाकर कई घंटों तक बैठाया जाता है। पुणे में एक व्यापारी की बुरी तरह पिटाई की गई है। बेलगाम हो चुके अधिकारियों की वजह से भ्रष्टाचार पनप रहा है और उद्योग अन्य राज्यों में जाने को मजबूर हो रहे हैं।
-शंकर ठक्कर, ठाणे

• व्यापारियों को मत करो परेशान
केंद्र की वाहवाही लूटने के लिए राज्य सरकार अब व्यापारियों पर सख्ती दिखा कर जीएसटी के दायरे में सभी लोगों को लाने की पहल कर रही है, इससे व्यापारी परेशान होकर व्यापार गुजरात की तरफ ले जा रहे हैं। राज्य सरकार के अप्रशिक्षित अधिकारियों के चलते व्यापारी दूसरे राज्य में जा रहे हैं। यह घटना राज्य सरकार के लिए शर्मनाक होगी।
-शांताराम पुराम, बदलापुर।

आज का सवाल?
महंगाई पर अब तक जनता ही चिंता जता रही थी लेकिन अब संघ के सर कार्यवाहक ने भी केंद्र की भाजपा सरकार को महंगाई के मुद्दे पर घेरा है। होसबाले ने देश में मोदी सरकार के विकास के नारे को एक तरह से पूरा झूठ बता दिया है।
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार