मुख्यपृष्ठनए समाचारसवाल हमारे जवाब आपके?

सवाल हमारे जवाब आपके?

केंद्र की भाजपा सराकार जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों का खात्मा करने का दंभ भरती है। सरकार इस मामले में पूरी तरह से विफल है। इसका ताजा उदाहरण हाल ही में देखने को मिला। गृहमंत्री के जम्मू दौरे के दौरान डीजी की आतंकियों ने हत्या कर दी।
नहीं थम रहा है आतंकवाद
हिंदुस्थान के लोगों को लग रहा था कि केंद्र की भाजपा सरकार आतंकवाद का खात्मा कर देगी, परंतु वैसा नहीं दिखाई दे रहा है। आतंकवाद की दहशत अभी भी जम्मू-कश्मीर में बरकरार है, जिसका जीता-जागता उदाहरण गृहमंत्री के दौरे के दौरान डीजी की आतंकवादियों द्वारा हत्या कर देना है। सरकार को चाहिए आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंके।
-राजेश भाटिया, अंबरनाथ

हवा-हवाई दावा हो रहा फेल
जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के समूल नाश के लिए जो कठोर रवैया मोदी सरकार को अपनाना चाहिए था, जमीनी स्तर पर वैसी योजना कहीं दिखाई नहीं दे रही है। आतंकवादियों द्वारा आए दिन हमले किए जा रहे हैं। सेना, पुलिस के जवान तथा अधिकारी शहीद हो रहे हैं। हवा-हवाई दावा करने के बजाय केंद्र सरकार को जमीनी स्तर पर और कड़े कदम उठाने की आवश्यकता है।
-रामसजीवन दुबे, दिवा

खुफिया तंत्र मजबूत करना होगा
जम्मू-कश्मीर के हालात अभी भी सुधरे नहीं हैं, इसकी वजह हमारा खराब खुफिया तंत्र है। केंद्र को अपना खुफिया तंत्र मजबूत करना होगा, तभी हालात सुधरेंगे।
-अरविंद मिश्रा, कल्याण

केंद्र के मुंह पर तमाचा
केंद्रीय गृहमंत्री की मौजूदगी के बावजूद डीजी की हत्या हो जाती है, यह केंद्र के मुंंह पर तमाचा ही है। केंद्र को अब जम्मू-कश्मीर के हालात का जायजा लेना ही होगा, वरना कोई फायदा नहीं है।
-ताराकांत द्विवेदी, अंबरनाथ

आतंकियों में डर नहीं
अमित शाह का दौरा होने के बाद भी आतंकवादी संगठन सक्रिय रहते हैं और अपनी मनमानी करते हुए डीजी रैंक के अधिकारी को मौत के घाट उतार देते हैं, यह घटना निंदनीय तो है ही, साथ ही साथ केंद्र के मुंह पर तमाचा भी है। मोदी सरकार के होते हुए आतंकियों में डर नहीं है।
-सुनील शुक्ला, डोंबिवली

आतंकी आतंक मचा रहे हैं
जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। केंद्र सरकार के कानून को ताक पर रखते हुए आतंकवादी आतंक मचा रहे हैं। देश के लिए यह दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि केंद्रीय गृहमंत्री के मौजूदगी में डीजी की हत्या हो जाती है। अब समय आ गया है आतंकवाद को खत्म करने का इसलिए आतंकवादियों के खिलाफ सख्त से सख्त कानून होना चाहिए, ताकि ये लोग सिर तक न उठा पाएं।
-भावना मिश्र, मुंबई

आज का सवाल?
केंद्र सरकार ने वाहवाही लूटने के लिए गांधी नगर और मुंबई सेंट्रल के बीच ‘वंदे भारत’ ट्रेन चलाई है लेकिन पटरियों के बगल में सुरक्षा दीवार का इंतजाम नहीं किया। ‘वंदे भारत’ की रफ्तार के आगे आकर मवेशी मारे जा रहे हैं।
आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार