मुख्यपृष्ठनमस्ते सामनासवाल हमारे-जवाब आपके

सवाल हमारे-जवाब आपके

केंद्र की भाजपा सरकार देश की अन्य राजनीतिक पार्टियों को खत्म करने में जुटी हुई है। लेकिन पाकिस्तान में छिपे देश के असली दुश्मनों दाऊद इब्राहिम, मसूद अजहर और हाफिज सईद की तरफ केंद्र सरकार का ध्यान क्यों नहीं जा रहा है?

  • कोई फर्क नहीं
    मोदी और शाह को तानाशाही पसंद है। देश में अपना राज हो, भले ही भारत को नुकसान पहुंचाने वाले लोग पाकिस्तान में मुर्ग मुस्सलम खा रहे हों और भारत विरोधी साजिशें रच रहे हों। केंद्र को कोई फर्क नहीं पड़ता है।
    -आयुषी गौड़, कल्याण
  • कथनी और करनी में अंतर
    केंद्र सरकार की कथनी और करनी में अंतर है। चुनाव में सरकार ने आतंकवाद को खत्म करने का वादा किया था लेकिन भूल गई। भाजपा सरकार आईना दिखाने वाली राजनीतिक पार्टियों को ही खत्म करने में जुट गई है।
    -धर्मेंद्र यादव, नालासोपरा
  • जनता सब जानती है
    केंद्र की मोदी सरकार और उसका गोदी मीडिया शांत है। भाजपा देश के भीतर बस अपना राज चलाने की मानसिकता के साथ चल रही है। इनको चुनाव के समय दाऊद याद आता है, हाफिज याद आता है। जनता सब जानती है।
    -राखी यादव, अंबरनाथ
  • उन पर ध्यान ही नहीं
    केंद्र में भाजपा सरकार आने के बाद विपक्ष पर ईडी की कार्रवाई हो रही है। भाजपा देश की अन्य राजनीतिक पार्टियों को खत्म करने में जुटी है। हाफिज सईद, दाऊद इब्राहिम, मसूद अजहर जैसे देश के गद्दारों के खिलाफ कोई कार्रवाई केंद्र सरकार नहीं कर रही है, उन पर इस सरकार का ध्यान ही नहीं है।
    -पवन कुमार पटेल, कांदिवली
  • ठोस रणनीति की जरूरत
    दाऊद इब्राहिम, मसूद अजहर और हाफिज सईद जैसे देश के असली दुश्मन आज भी पाकिस्तान में बैठकर बेखौफ हमारे देश के खिलाफ साजिश रचते रहते हैं। केंद्र सरकार उनके खिलाफ कोई ठोस रणनीति बनाने की बजाय देश की अन्य राजनीतिक पार्टियों को खत्म करने में जुटी है।
    -भास्कर झा, पटना
  • द्वेषभरी राजनीति
    मोदी सरकार की द्वेषभरी राजनीति से देश की स्थिति बिगड़ती जा रही है। केंद्र सरकार देश के बाहरी दुश्मनों को खत्म करने की बजाय केवल ईडी का सहारा लेकर विरोधी दलों और प्रांतीय पार्टियों को समूल नष्ट करने में जुटी हुई है। ऐसे ही चलता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब हिंदुस्थान से लोकतंत्र का ही खात्मा हो जाएगा।
    -बनवारी यादव, नागरिक
    आज का सवाल?
    केंद्र  सरकार ने नवरात्रि के दौरान आयोजित होने वाले गरबे पर भी जीएसटी लगा दिया है। सरकार के इस निर्णय से भाजपा शासित गुजरात की जनता हैरान है। इसको लेकर राज्य में गदर मच गया है।
    आप क्या सोचते हैं? तुरंत लिखकर भेजें या मोबाइल नं. ९३२४१७६७६९ पर व्हॉट्सऐप करें।

अन्य समाचार