मुख्यपृष्ठसमाचारशून्य से ब्रह्मांड की रचना करनेवाले निष्ठावान शिवसैनिक थे `सर ' -संजय...

शून्य से ब्रह्मांड की रचना करनेवाले निष्ठावान शिवसैनिक थे `सर ‘ -संजय राऊत

सामना संवाददाता / मुंबई

‘शून्य से दुनिया का निर्माण करनेवाले महाराष्ट्र अभिमानी प्रखर शिवसैनिक को हमने खो दिया,’ ऐसे शब्दों में शिवसेना नेता, सांसद संजय राऊत ने दिवंगत आत्मा को भावपूर्ण श्रद्धाजलि दी। राऊत ने आगे कहा कि मनोहर जोशी महाराष्ट्र, मराठी लोगों, शिवसेना और हर शिवसैनिक के लिए एक आदर्श थे। वे कई दिनों से बीमारी से जूझ रहे थे। वे हार न माननेवाले और लड़ाकू थे। वे शिवसेना के अब तक के इतिहास में हर आंदोलन में सबसे आगे रहे। वह शिवसेनाप्रमुख के प्रति बहुत वफादार थे। मुंबई में विरोध प्रदर्शन के दौरान बालासाहेब ठाकरे को गिरफ्तार कर लिया गया था, उस वक्त मनोहर जोशी भी उनके साथ थे। वे अपनी आखिरी सांस तक एक शिवसैनिक के रूप में रहे। उन्होंने शिवसेना के माध्यम से देश के सभी संसदीय पदों पर कार्य किया। इसके लिए वे सदैव शिवसेना के प्रति वफादार रहे। वे एक महान वक्ता, महान विद्वान थे। वे बहुत पढ़े-लिखे थे और उन्हें मराठी पर बहुत गर्व था। वे एक सफल व्यवसायी भी थे। एक मराठी आदमी को उनसे सीखना चाहिए कि बिजनेस कैसे किया जाता है।’ लोकसभा अध्यक्ष रहते हुए उन्होंने दिखाया था कि संसद को बिना पक्षपात के कैसे चलाया जाता है। राजनीति में समयबद्धता मनोहर जोशी से सीखनी चाहिए। बालासाहेब के सुझाव पर, जब वे मुख्यमंत्री बने थे तो उन्होंने महाराष्ट्र में विस्थापित कश्मीरी पंडितों के बच्चों के लिए शैक्षणिक संस्थानों में सीटें आरक्षित कीं। मनोहर जोशी अयोध्या में राम जन्मभूमि आंदोलन में भी सक्रिय रूप से शामिल थे। इस बात के भी सबूत हैं कि वे कारसेवा के लिए शारीरिक रूप से भी उपस्थित थे।

अन्य समाचार

नो किसिंग