मुख्यपृष्ठसंपादकीय

संपादकीय

संपादकीय : सरकार कहां है? …पंडितों की ‘हिटलिस्ट’

देश के प्रधानमंत्री और गृहमंत्री गुजरात विधान सभा चुनाव जीतने के लिए जी-जान से रणनीति बनाने में मशगूल थे, वहीं जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान प्रायोजित...

संपादकीय : डॉ. आंबेडकर! …‘देश संकट में है!’

डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर का आज ६७वां महापरिनिर्वाण दिवस है। देश के कोने-कोने से आज इस महामानव को श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। मुंबई स्थित चैत्यभूमि...

संपादकीय: अरे को क्या रे…!

कोई सरकार रामभरोसे चल रही है, ऐसा हमेशा कहा जाता है‌। लेकिन मौजूदा मिंधे सरकार मन्नत और मनौती तथा तंत्र-मंत्र पर चल रही है।...

रोखठोक : महाराष्ट्र में नए बाजीराव!

संजय राऊत-कार्यकारी संपादक कामाख्या देवी की यात्रा से मुख्यमंत्री और उनके गुट के विधायक वापस लौट आए हैं। पशुओं की बलि देकर मनौती पूरी करने...

संपादकीय : शिव प्रेम का नया ढोंग!

भारतीय जनता पार्टी असल में कितने मुंहवाला नाग है? उस पर अब नए सिरे से शोध करना चाहिए। किसी विषय पर जो चाहिए वह...

संपादकीय : स्पष्ट और निडर

देश में आज सभी क्षेत्रों में दबाव और दमन का माहौल है। साहित्य का क्षेत्र भी इसमें अपवाद नहीं है। इस माहौल के खिलाफ...

संपादकीय : न्याय व्यवस्था को निगलने का प्रयास …कानून मंत्री इस्तीफा दो!

हिंदुस्थान को संविधान देनेवाले डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने कानून मंत्री के पद को भी सुशोभित किया था। डॉ. आंबेडकर कानून के मामले में शेर...

संपादकीय : महावितरण या पठानी टोली! …प्रायश्चित करेंगे क्या?

राज्य में खोके की सरकार आने के बाद से महाराष्ट्र में सभी मुद्दों में गिरावट जारी है। सत्ताधीश चाहे कितने भी ‘सकारात्मक’ माहौल का...

संपादकीय : कोरोना और खसरा! …स्वास्थ्य तंत्र कहां है?

चीन में एक बार फिर कोरोना तो महाराष्ट्र में खसरे के प्रकोप से हाहाकार मचा है। खसरे का संकट है ही, परंतु चीन में...

संपादकीय : देवी उग्र ही हैं!

महाराष्ट्र में अनेक समस्याओं के कारण हाहाकार मचा है। किसान, बेरोजगार, युवा हताश हो रहे हैं। ‘खसरे’ की महामारी के कारण सैकड़ों बच्चे बेजार...

रोखठोक : महाराष्ट्र को नामर्द बनाने की साजिश …राजियों की जीवनी!

संजय राऊत - कार्यकारी संपादक वीर सावरकर के अपमान के मामले में भाजपा ने जो जोश और जोर दिखाया वह छत्रपति शिवाजी महाराज के अपमान...

संपादकीय : असम-मेघालय में हिंसा …ईशान्य का ‘ज्वालामुखी’

असम और मेघालय इन दो राज्यों के बीच एक बार फिर सीमा विवाद की चिंगारी भड़क उठी है। असम के पश्चिम में स्थित काब्री...

संपादकीय : बेलगांव की छाती पर पांव रखकर बोम्मई महाराष्ट्र में घुस रहे हैं! …नामर्द सरकार!!

महाराष्ट्र के आराध्य देवताओं की एक तरफ बदनामी करते रहना, उसी समय महाराष्ट्र के सीमाई क्षेत्र को निगलने की साजिश रची जाती है। ऐसा...

संपादकीय : कर्ज चोरों का ‘ग्रहण’!

बढ़ते कर्ज और आर्थिक मंदी के कारण दुनियाभर के कई देशों की अर्थव्यवस्था डांवांडोल होती दिख रही है। हमारे देश का प्रवास भी ऐसे...

संपादकीय : मुख्य न्यायाधीश की खरी-खरी!

मुख्य न्यायाधीश धनंजय चंद्रचूड़ ने न्याय व्यवस्था में व्याप्त ज्वलंत समस्याओं को उठाया है। देश में वर्तमान में जो ‘दबाव का युग’ चल रहा...

अन्य समाचार

पंचांग