मुख्यपृष्ठनमस्ते सामना

नमस्ते सामना

मेहनतकश : टैक्सी चलाकर बेटों को बनाया कामयाब

अशोक तिवारी कहते हैं कि वक्त के साथ इंसान बदल जाता है। अक्सर देखा गया है कि जो इंसान गरीबी से ऊपर उठकर कामयाब व्यक्ति...

सिटीजन रिपोर्टर : बदलापुरकरों की परेशानी बने कुत्ते!

बदलापुर बदलापुर के नगरसेवकों का कार्यकाल मई २०२० से समाप्त हुआ है। उसके बाद से तकरीबन ढाई वर्षों तक कोरोना का कहर रहा, जिससे लोग...

संपादक के नाम पत्र : फेंका जाता है ट्रांसफॉर्मर के सामने कचरा

उल्हासनगर के लोगों ने मानो कसम खा रखी है कि हम कभी नहीं सुधरेंगे। उल्हासनगर मनपा का सफाई विभाग लोगों के घरों से निकलनेवाले...

मेहनतकश : दिव्यांगता को मात देकर जीती जीवन की जंग

अशोक तिवारी किसी भी व्यक्ति के लिए दिव्यांग होना अभिशाप की तरह है। अपने अथक प्रयासों के बाद सरकार ने कुछ वर्षों से पोलियो जैसी...

सिटीजन रिपोर्टर : डंपिंग का डेंजरस ग्राउंड!

-आए दिन लगती है कचरे में आग उल्हासनगर महाराष्ट्र में वैसे तो जितने भी डंपिंग ग्राउंड हैं, उनमें आए दिन अचानक आग लगती रहती है। इस...

संपादक के नाम पत्र : फुटपाथ पर अवैध पार्किंग

मुंबई महानगरपालिका करोड़ों रुपए खर्च कर मुंबई के आम नागरिकों के चलने के लिए फुटपाथ का निर्माण करती है। हर वर्ष फुटपाथ के नवीनीकरण...

किस्सों का सबक : ज्ञान का अहंकार

डॉ. दीनदयाल मुरारका एक समय की बात है किसी शहर में बहुत दूर से एक विद्वान आया। उसने लोगों से कहा कि वह यहां के...

मेहनतकश : फौजी नहीं बन पाए तो बन गए गैरेज मालिक

रवींद्र मिश्रा हर पढ़े-लिखे युवक की तमन्ना होती है कि उसे सरकारी नौकरी मिले, ताकि वो अपने देश की सेवा कर सके। लेकिन सरकारी नौकरी...

सिटीजन रिपोर्टर : रेलवे की वन रुपी क्लीनिक योजना हो गई भंगार!

उल्हासनगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में नई-नई लुभावनी योजनाओं का जहां आए दिन उद्घाटन करते रहते हैं। वहीं रेल यात्रियों को दी जानेवाली एक-एक योजना...

संपादक के नाम पत्र : भंगार बन गया है स्कायवॉक

लोग पूर्व से पश्चिम की ओर आ-जा सकें और लोगों का पूर्व से पश्चिम और उल्हासनगर स्टेशन पर आना-जाना सुरक्षित और सुलभ हो इसके...

शमा दिल की जलानी है

किसी को चाहना हो तो शमा दिल की जलानी हैl उसे भी प्यार आ जाए तो वफा ऐसी दिखानी हैll तुम्हें ही देख जीते हैं तुम्हें...

जिंदगी से बात करिए

जिंदगी से बात करना इतना जरूरी है जैसे हर पल किसी से मुलाकात जरूरी है तरह-तरह की जिम्मेदारियां दर्द में लेना जरूरी है रंजोगम के मोड़ पे...

मेहनतकश : दूसरों के लिए भी बने रोजी-रोटी का माध्यम

अनिल मिश्र समाज में कई ऐसे लोग हैं, जो खुद के लिए जीते हैं। केवल खुद का विकास हो, ऐसी उनकी इच्छा होती है। लेकिन...

सिटीजन रिपोर्टर : उल्हासनगर का टेलीफोन एक्सचेंज बना भूत बंगला!

उल्हासनगर केंद्र सरकार के दूर-संचार मंत्रालय की देख-रेख में चलनेवाला दूरसंचार विभाग आज सरकार की गलत नीतियों की बलि चढ़ गया है। एक समय भीड़-भाड़...

संपादक के नाम पत्र : शिंदे सरकार ध्यान किधर है?

मुंबई की महानगरपालिका पूरे देश की सबसे अमीर महानगरपालिका मानी जाती है, जिसका बजट कई राज्यों के बजट से भी ज्यादा है। पता चला...

अन्य समाचार