मुख्यपृष्ठनमस्ते सामना

नमस्ते सामना

ज़िंदगी

करते हैं शिकवे शिकायतें सभी उम्र भर फिर भी कितनी गुलजार है ये ज़िंदगी शुक्रगुज़ार हैं दो रोज़ा जीस्त के हम सभी वक़्त की कैद से आजाद...

देश खुशहाल होना चाहिए

कह रहा हूँ काव्य को संवाद तक ले जाइए।। हक के सवाल को जरा फरियाद तक ले जाइए।। आपका यह फर्ज है अपने वतन के वास्ते। कर्ज...

पाठकों की रचनाएं : सब के सब बहकाने आए

सब के सब बहकाने आए झूठा पाठ पढ़ाने आए।। खाए हैं वे कंपनियों से। हमको शब्द खिलाने आए।। हम लोगों की मजबूरी को। वे मजबूर बनाने आए।। मीठी-मीठी बात कर...

रविवार को नमस्ते सामना में प्रकाशित पाठकों की रचनाएं

प्रेम की खूबियां चाहिए खोल दे राज-ए-दिल चाबियां चाहिए। दिल के कमरे में अब खिड़कियां चाहिए।। दे सुकूं जिंदगी को मेरे बस वही। ऐसे दिन यार वो घड़ियां...

‘गीता सार: कर्मों की गति न्यारी बंदे’

कर्म अपने सारे जाते हैं जीवन रूपी बचत खाते में, कभी खुशी कभी गम कैश होते रहते हैं रोज-रोज बदले में! कभी जब कर्मों का खाता...

संपादक के नाम पत्र : भंगार गाड़ियों को जप्त किया जाए

मैं `दोपहर का सामना' के माध्यम से पुलिस प्रशासन का ध्यान सड़क किनारे खड़ी गाड़ियों की तरफ आकर्षित कराना चाहता हूं। महोदय, नालासोपारा, वसई-विरार...

संपादक के नाम पत्र : सम्राट अशोक जयंती पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित हो

मैं `दोपहर का सामना' के माध्यम से देश के महामहिम राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से निवेदन करता हूं कि महान सम्राट अशोक जयंती पर राष्ट्रीय अवकाश...

संपादक के नाम पत्र : रेलवे लाइन पार करनेवालों पर हो कार्रवाई!

रेलवे लाइन पार करनेवालों पर हो कार्रवाई! मैं ‘दोपहर का सामना’ के माध्यम से कलवा आरपीएफ का ध्यान रेलवे लाइन की तरफ दिलाना चाहता हूं।...

जब `आत्मा’ ने उकसाया… तो मौत को गले लगाया!

एक ही परिवार के तीन की मौत सुसाइड नोट में लिखीं अजब बातें उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जनपद में एक अजीबोगरीब मामला सामने...

पाठकों की रचनाएं : शादी का मौसम

शादी का मौसम नवंबर होता शुरू शादियों का दौर चल पड़ता चेहरों पर मुस्कान होती दो दिलों में जान आता बाजारों में चहल-पहल दिखती निमंत्रण से जान पहचान बढ़ती। घर का...

पाठकों की रचनाएं : स्कूल का दिन

स्कूल का दिन स्कूल का पहला दिन क्या कोई भूल पाएगा? पीठ पर बस्ता किताबों का ढोना क्या भूल पाएगा। कोई खुशी से गया होगा तो कोई आसमान सिर रख बड़े-बड़े...

पाठकों की रचनाएं : मर्यादा पुरुषोत्तम

मर्यादा पुरुषोत्तम तेज प्रतापी, पराक्रमी और मर्यादा के गामी श्रीरामचंद्र थे अद्भुत राजा बड़े हृदय के स्वामी। कष्ट से भरा था जीवन उनका मुख पर थी मुस्कान करते पालन मर्यादा का शत्रु...

 ” इम्तिहान “

ग़दर मचा रखा है , दिल में सांसों में तूफान सा है। तेरा इश्क वज़ूद है मेरा, एक इम्तिहान सा है ।। आरज़ू , हसरतें तुम्हीं से है, फिर...

संपादक का नाम पत्र : मीरा-भायंदर को प्रदूषणमुक्त बनाएं

`दोपहर का सामना' के माध्यम से मैं मीरा-भायंदर महानगरपालिका के आयुक्त दिलीप ढोले और परिवहन उपायुक्त का ध्यान मनपा के परिवहन सेवा में चलनेवाली...

संपादक के नाम पत्र : हादसों को निमंत्रण देनेवाला शॉर्टकट करें बंद!

प्रभादेवी रेलवे स्टेशन के पास एलफिंस्टन फ्लाई ओवर ब्रिज पर टिकट खिड़की के पास (पश्चिम दिशा की ओर जानेवाले) पादचारी मार्ग और मुख्य सड़क...

अन्य समाचार

पंचांग