मुख्यपृष्ठनए समाचार४० हजार करोड़ का कोविड घोटाला!... भाजपा में खलबली!

४० हजार करोड़ का कोविड घोटाला!… भाजपा में खलबली!

सामना संवाददाता / नई दिल्ली

पार्टी के नाराज विधायक ने दी येदियुरप्पा सरकार के ‘पर्दाफाश’ की धमकी

४५ रुपए के मास्क को ४८५ रुपए में खरीदे जाने का लगाया आरोप

भाजपा विधायक बसनगौड़ा पाटील यतनाल ने अपनी ही पार्टी भाजपा के खिलाफ गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी में खलबली मचा दी है। उन्होंने अपनी पार्टी को चेतावनी दी कि अगर उन्हें पार्टी से निकाला गया तो वह कोविड-१९ महामारी के चरम के दौरान कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में ४०,००० करोड़ रुपए के कथित घोटालों का पर्दाफाश करेंगे। यतनाल ने कहा, `कर्नाटक में भाजपा सरकार ने कोविड के दौरान भारी भ्रष्टाचार किया है। वे मुझे नोटिस दें और मुझे पार्टी से निकालने की कोशिश करें, मैं उन्हें बेनकाब कर दूंगा।’ यतनाल ने येदियुरप्पा और उनके परिवार के खिलाफ, खासकर उनके दूसरे बेटे बी वाई विजयेंद्र को भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के बाद हमला बोला है। विधायक ने कहा, `एक मास्क जिसकी कीमत ४५ रुपए है, येदियुरप्पा, सरकार ने कोविड के दौरान उनमें से प्रत्येक पर कितना खर्च किया? उन्होंने प्रत्येक मास्क के लिए ४८५ रुपए की कीमत रखी थी।’ भाजपा विधायक ने विजयपुरा में कहा, `भाजपा सरकार न बंगलुरु में १०,००० बिस्तरों की व्यवस्था की है। इन बिस्तरों को किराए पर लिया गया था। अगर खरीदा होता तो दो बिस्तर उसी कीमत पर खरीदे जा सकते थे। वे प्रतिदिन २०,००० रुपए किराया देते थे। २०,००० रुपए में सेलाइन स्टैंड वाली दो खाटें खरीदी जा सकती थीं।’ इन आरोपों को लेकर दस्तावेज जारी करने के लिए पूछे जाने पर यतनाल ने कहा कि दस्तावेज लोक लेखा समिति के पास उपलब्ध थे। उन्होंने संवाददाताओं से कानून और संसदीय कार्य मंत्री एच के पाटील से बात करने को कहा, जो भाजपा शासन के दौरान अध्यक्ष थे। विजयपुरा विधायक ने कहा कि उन्हें लोक लेखा समिति का अध्यक्ष बनाने के लिए भी कहा गया था लेकिन उन्होंने कहा कि वह सब कुछ सार्वजनिक कर देंगे। इसलिए उनकी नियुक्ति नहीं की गई। यतनाल के उनके बयान पर त्वरित प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री रहने के दौरान हुई अनियमितताओं के बारे में यतनाल के आरोप उनके आरोपों का प्रमाण है कि भाजपा शासन के दौरान राज्य में ४० प्रतिशत कमीशन की सरकार थी।

भाजपा राज में भारी भ्रष्टाचार

यतनाल ने दावा किया कि कोविड-१९ प्रकोप के दौरान ४०,००० करोड़ रुपए की अनियमितता हुई है। विधायक के मुताबिक, भाजपा सरकार के दौरान हर मरीज का आठ से १० लाख रुपए तक का बिल बनाया गया था। उन्होंने कहा कि हालांकि, वह सरकार से मेडिकल क्लेम पाने के हकदार हैं, लेकिन उन्होंने अपनी जेब से भुगतान करना पसंद किया। मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि यतनाल का बयान कोविड के समय में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार का सबूत है।

अन्य समाचार