मुख्यपृष्ठस्तंभबब्बा बोलो ना... : तबीयत खराब, बहानों की जांच!

बब्बा बोलो ना… : तबीयत खराब, बहानों की जांच!

अरुण गुप्ता

लोकसभा चुनाव की तैयारियों ने रफ्तार पकड़ ली है। मतदान कराने वाले कार्मिकों का चुनाव पोर्टल पर ब्योरा सबमिट कर दिया गया है। कौशांबी लोकसभा के लिए २० मई और प्रतापगढ़ लोकसभा के लिए २५ मई को चुनाव होना है। लोकसभा चुनाव संपन्न कराने के लिए २१ हजार ३९५ कार्मिकों की ड्यूटी लगाई गई है। चुनाव ड्यूटी में लगे ७०३ मतदान कार्मिकों ने तबीयत खराब होने का हवाला दिया है। इसमें कुछ कार्मिकों ने सहायक मतदान कार्मिक प्रभारी एवं जिला विकास अधिकारी राकेश से मिलकर अपनी पीड़ा बताई। चुनाव ड्यूटी न लगे, इसके लिए सैकड़ों कार्मिकों ने बीमारी का हवाला देकर प्रार्थना पत्र सहायक कार्मिक प्रभारी को दिए हैं। उसे प्रभारी कार्मिक अधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को उनकी जांच करने के लिए कहा है। अब देखना दिलचस्प होगा कि वास्तव में बीमार हैं या बहानेबाजी है।
अभय सिंह को क्रॉस वोटिंग का तोहफा
राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग कर भाजपा के पक्ष में वोट डालने वाले अयोध्या की गोसाईगंज सीट से सपा विधायक अभय सिंह को रिटर्न गिफ्ट के तौर पर वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली है। अब सपा विधायक अभय सिंह की सुरक्षा में सीआरपीएफ के जवान तैनात रहेंगे। अभय सिंह लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जान का खतरा बताते रहे हैं। राज्यसभा चुनाव में अभय सिंह के अलावा कई अन्य नेताओं ने क्रॉस वोटिंग की थी, जिसकी वजह से राज्यसभा में भाजपा के ७ की जगह ८ नेता पहुंच गए थे। सूत्रों के मुताबिक, मनोज कुमार पांडे को वाई प्लस और राकेश प्रताप सिंह को वाई वैâटेगरी की सुरक्षा दी गई है। बताते चलें कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के ७ विधायकों ने एनडीए के समर्थन में मतदान किया था। इसकी वजह से भाजपा के संजय सेठ जीत गए थे। वह साल २०१९ में सपा छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। सपा के राकेश पांडेय, राकेश प्रताप सिंह, अभय सिंह, विनोद चतुर्वेदी, मनोज पांडेय, पूजा पाल और आशुतोष मौर्य ने संजय सेठ को वोट दिया था। क्षेत्र के लोग अभी यही कह रहे हैं कि भाजपा से अभय सिंह को रिटर्न गिफ्ट तो मिलना ही था, सो मिल गया।
ओमप्रकाश राजभर का बड़बोलापन
घोसी लोकसभा सीट से भाजपा सुभासपा गठबंधन से अरविंद राजभर को उम्मीदवार बनाया गया है। अरविंद राजभर की उम्मीदवारी से सवर्ण मतदाता खासा नाराज बताए जा रहे हैं। उधर, ओम प्रकाश राजभर ने लोकसभा चुनाव को लेकर मऊ के इंदारा इलाके के प्रधानों के साथ बैठक में एक बार फिर बड़बोलापन दिखाया है। बेटे अरविंद राजभर को जिताने के लिए हुई बैठक में ओमप्रकाश ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी से प्रत्याशी हमने तय कर दिया है। सपा ने भी हारने वाले प्रत्याशी को घोषित कर दिया है। बहुजन समाज पार्टी को सपा के गले की फांस बना दिया है। उन्होंने प्रधानों से कहा कि घोसी लोकसभा जीतने पर दिल्ली से माल ले आने में आसानी होगी। सभी प्रधान एक बार जीतोड़ मेहनत कर दें। बताते चलें कि मऊ जनपद में पिछले विधानसभा उपचुनाव और नगर पालिका चुनाव में सामान्य वोटरों ने भारतीय जनता पार्टी गठबंधन से दूरी बनाई, उसका फायदा सपा और बसपा को हुआ था। ठीक वैसा ही कुछ परिणाम इस बार के चुनाव में भी हो सकता है। अब देखना दिलचस्प होगा कि ओमप्रकाश राजभर के दावे में कितना दम है या सपा के दांव में उलझ गए हैं, यह तो चुनाव परिणाम ही बताएगा।

अन्य समाचार

अब तक