मुख्यपृष्ठसमाचारकिसानों के साथ केंद्र का घात!

किसानों के साथ केंद्र का घात!

– प्याज निर्यात पर बढ़ाया प्रतिबंध…चुनाव में जनता दिखाएगी औकात

सामना संवाददाता / मुंबई

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार ने प्याज निर्यात को लेकर बड़ा पैâसला लिया है। केंद्र सरकार ने पहले पैâसला किया था कि प्याज निर्यात पर प्रतिबंध ३१ मार्च तक रहेगा। लेकिन अब इस निर्यात प्रतिबंध को अनिश्चितकाल के लिए बढ़ा दिया गया है। इससे खासकर महाराष्ट्र में प्याज किसानों को बड़ा झटका लगा है। यह पैâसला लेकर के केंद्र सरकार ने प्याज उत्पादक किसानों के साथ फिर से घात किया है। हालांकि, किसानों का कहना है कि लोकसभा चुनाव में इस सरकार को इसकी औकात दिखा देंगे।
प्याज निर्यात पर प्रतिबंध से पहले ही किसानों में केंद्र सरकार, खासकर सत्तारूढ़ भाजपा के खिलाफ गुस्सा भड़क गया था। अब किसानों का ये आक्रोश और तेज होनेवाला है। प्याज निर्यात पर प्रतिबंध अनिश्चितकाल के लिए बढ़ाए जाने से अब यह कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा को तगड़ा झटका लगेगा। इसके साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के दौरान प्याज की कीमतें बढ़ने से रोकने के लिए केंद्र सरकार ने यह पैâसला लिया है। केंद्र सरकार के इस फैसले से कुछ देशों के बाजारों में प्याज की कीमतें आसमान छूने की आशंका है।
३१ मार्च को समाप्त होनेवाला था प्रतिबंध
देश में प्याज की बढ़ती कीमतों के कारण केंद्र सरकार ने दिसंबर २०२३ से निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसे लेकर महाराष्ट्र में किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने कहा था कि यह निर्यात प्रतिबंध ३१ मार्च तक रहेगा। इस निर्यात प्रतिबंध के बाद देश के बाजारों में कीमतें गिरने से प्याज कौड़ी के मोल बिकने लगा। इससे किसानों को भारी नुकसान हुआ।
फैसले से चौक गए हैं किसान
अब जब बाजार में नया प्याज आ रहा है, तो किसानों और व्यापारियों को उम्मीद थी कि केंद्र सरकार प्याज पर से निर्यात प्रतिबंध हटा देगी। लेकिन केंद्र सरकार ने इसके उलट फैसला लेकर किसानों को चौंका दिया है। केंद्र सरकार ने शुक्रवार रात इस संबंध में आदेश जारी किया। इस आदेश में कहा गया है कि प्याज पर निर्यात प्रतिबंध अगले आदेश तक प्रभावी रहेगा।
सही नहीं है यह फैसला
बाजारों में प्याज की आवक बढ़ गई है और कीमतें गिर गई हैं। फिर भी प्याज के निर्यात पर रोक लगाई जा रही है। प्याज निर्यातक कंपनियों ने कहा है कि यह फैसला सही नहीं है। महाराष्ट्र में प्याज की कीमत १२०० रुपए प्रति क्विंटल से नीचे है। दिसंबर २०२३ में प्याज की कीमतें बढ़कर ४५०० रुपए प्रति क्विंटल हो गई थीं। बांग्लादेश, मलेशिया, नेपाल और संयुक्त अरब अमीरात हिंदुस्थान से प्याज निर्यात पर काफी हद तक निर्भर हैं। ऐसे में इन देशों में प्याज की कीमतें बढ़ने की उम्मीद है।

अन्य समाचार

अब तक