मुख्यपृष्ठनमस्ते सामना24 मार्च 2024 के अंक नमस्ते सामना में प्रकाशित पाठकों की रचनाएं

24 मार्च 2024 के अंक नमस्ते सामना में प्रकाशित पाठकों की रचनाएं

सांवरिया होली में
मैं तो हो गई पागल आज सांवरिया होली में
मैं तो भूली खुद को आज सांवरिया होली में
लाज शर्म के पहरे तोड़े बंधन अपने सारे छोड़े
मैंने पी ली थोड़ी भंग सांवरिया होली में
पैरों में घुंघरू बांध लिया मीरा का मैंने रूप लिया
मैं तो नाचूं गिरधर संग सांवरिया होली में
गोपी भी नाचे ग्वाल भी नाचे, नाचे सब बृज धाम
मैं भी नाचूं जी भर आज सांवारिया जोड़ी में
भोले भी नाचे गौरा भी नाचे नाचे सब वैâलास
अवध पुरी में राम भी नाचे सीता संग हैं आज
देखो नाचे सब संसार सांवरिया होली में
– प्रज्ञा पांडेय ‘मनु’, गुजरात

जियरा डेराला
फागुन में जियरा डेराला,
सखी, मोरा फागुन में जियरा डेराला।
पिया संग देवरा न मानय कहनवां,
रंगवा से डूबय ओसारा अंगनवा,
भोरवय से भंगिया पिसाला,
अरे भोरवय से भंगिया पिसाला,
सखी, मोरा फागुन में जियरा डेराला।
लड़िका जवनका के एक्वैâ कहानी,
होरी में बुढ़वउ के फूटय जवानी,
घरवा में सब बउराला,
अरे घरवा में सब बउराला,
सखी, मोरा फागुन में जियरा डेराला।
सर से सरकि जाला मोरी चुनरिया,
मस्ती में झूमेला सगरी डगरिया,
फागुन में कुछ ना बुझाला,
अरे फागुन में कुछ ना बुझाला,
सखी, मोरा फागुन में जियरा डेराला।
– राजीव मिश्र ‘मधुकर’

होली का त्योहार
वसुंधरा के आंगन में
बहे फागुन की बयार
सात रंगों को लेकर आया
होली का त्योहार
हाथ में अबीर, गुलाल लिए
चली हुड़दंगों की टोली है
बच पाओ बच पाओ वरना
बुरा न मानो होली है
गले मिले खुशियां बांटे
बांटे स्नेह और प्यार
सात रंगों को लेकर आया
होली का त्योहार
गांव, गली और चौबारे
सतरंगों से भागे सारे
झूम सब गाये राई गीत
साथ में बाजे ढोल नगाड़े
भीग गई गोरी की चुनरी
जो हुई रंगों की बौछार
सात रंगों को लेकर आया
होली का त्योहार
– पूरन ठाकुर ‘जबलपुरी’, कल्याण

होली खुशियों वाली
है आज फिजाएं रंगीली
हो रही हवा भी मतवाली
रग-रग में रंग है रास रहा
आई होली खुशियों वाली
मन-मन पक्षी सा चहक उठा
नव खुशबू से तन महक उठा
तन बसन रंगे हैं रंगों से
तन निर्जर हुए उमंगों से
नव कली कुसुम सी कल्पित हो
इठलाती हो गौरवशाली
आई होली खुशियों वाली
तन-मन जन-जन का पुलकित है
छवि प्रकृति करे आकर्षित है
जग रंग से हुआ अलंकृत है
यह छटा पुरातन संस्कृति है
अब दिनकर भी रंग खेल रहा
पूरब में छाई है लाली
आई होली खुशियों वाली
विश्व संस्कृति ज्ञान कला की
यही खान है सदा रही
विश्व दुलारे आर्यवर्त की
यही सदा संपदा रही
यही विविधता लिए एकता
अद्भुत और शोभाशाली
आई होली खुशियों वाली
– अजय द्विवेदी

खेलूंगा रंग
खिले हैं फूल टेसू के प्रिये मैं रंग खेलूंगा
गुलाबी गुलबदन गुलशन तुम्हारे संग खेलूंगा
चढ़े टेसू के फूलों पर बरसते रंग कहर ढाएं
गुलाबी रंग कपोलों पर गुलाबी रंग खेलूंगा
हमारी बस यही चाहत सालों साल रहती है
तुम्हारे संग फागुन में फाग के रंग खेलूंगा
लगाया पिछले फागुन में जो रंग होली का
चढ़ी इतनी है फिर से वही रंग खेलूंगा
ठंडाई भांग की गोली नहीं मिश्री-मलाई से
तुम्हारे रंग में रंगकर तुम्हारे संग खेलूंगा
निकलती गांव से टोली उड़ाते अबीर फगुआ में
फागुनी रंग अंग-अंग से बरसता रंग खेलूंगा
– डॉ. उमेश चंद्र शुक्ल

बाउर न बूझा होली हऽ
आइल चुनाव आइल चुनाव इबिअम खेल बिगाड़ी
चाहे कउनो बटन दबइबा एक्के प ऊ मारी जोगिरा सरा रा रा
गाड़ी आइल गाड़ी आइल चुनाव स्टेशन हल्ला
पइलैं सीट जोगाड़ी रह गइलैं निठल्ला जोगिरा सरा रा रा
कइसे जिअला कइसे मुअला कइसे गइला जेल
नजर गड़वले बाड़ैं नेता करे खातिर खेल जोगिरा सारा रा रा
हाथ धरा सइकिल चढ़ा चाहे जरावा ललटेन
जे खांच में हेलबा ना अइबा नाहीं फेन जोगिरा सरा रा रा
घुन्नी-घुन्नी चाटि के राजू भागा कउनो डगरी
ई डी वाले खेदि के धारिहैं तोहार टंगरी जोगिरा सरा रा रा
एहर जाके ओहर जाके बदलैं नेतवा भेष
टुकुर-टुकुर बइठ सब देखत बा देश जोगिरा सरा रा रा
बचे ना पावे एक्को ओट अबकी कसम खालऽ
एमे डालऽ ओमे डालऽ चाहे केहू में डालऽ जोगिरा सरा रा रा
– डॉ. एम.डी. सिंह

फागुन आया होगा!
रंगों की बारिश से रंग गई होंगी गांव की गलियां
ढोलक पर दे थाप फाग गाती होंगी मंडलियां
बौराये अमवां की डार पर कोयल ने गाया होगा
अबकी साल भी मेरे गांव में फागुन आया होगा
भउजी निकली होंगी लेकर रंग भरी पिचकारी
भइया भी कर रक्खे होंगे होली की तैयारी
बच्चों ने भी आपस में ही धूम मचाया होगा
अबकी साल भी मेरे गांव में फागुन आया होगा
मैं परदेशी बना गांव की याद सताए मुझको
मचल-मचल रह जाता हूं वैâसे बतलाऊं तुझको
कोई अपने बचपन को क्या कभी भुलाया होगा
अबकी साल भी मेरे गांव में फागुन आया होगा
– शिब्बू गाजीपुरी

वृक्ष बचाओ
विश्व बचाओ
चाहे धन, दौलत नहीं आए
यहां जीवन भर मेरे हाथ,
पर वृक्ष कटाई का पाप कभी
मत करवाना मुझसे मेरे नाथ!
-डॉ. मुकेश गौतम, वरिष्ठ कवि

अन्य समाचार

अब तक