मुख्यपृष्ठनए समाचारचुनाव आयोग के समक्ष सभी दल बोले, लोकसभा के साथ विधानसभा के...

चुनाव आयोग के समक्ष सभी दल बोले, लोकसभा के साथ विधानसभा के भी चुनाव हों

–सुरेश एस डुग्गर–
जम्मू। लोकसभा चुनाव को कामयाब बनाने के लिए हो रही तैयारियों का जायजा लेने के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार के नेतृत्व में चुनाव आयोग की टीम प्रदेश के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। मंगलवार को श्रीनगर में आयोग की टीम ने सबसे पहले राजनीतिक प्रतिनिधियों से मुलाकात की। जबकि कल वह जम्मू में राजनीतिक दलों से मुलाकात करेगी। श्रीनगर में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात के दौरान इन राजनीतिक दलों ने एकस्वर में लोकसभा के साथ साथ विधानसभा चुनाव भी संपन्न करवाने की मांग रखी है।

पीडीपी के प्रतिनिधि गुलाम नबी लोन हंजूरा ने कहा कि लोकसभा के साथ सुरक्षा स्थिति ठीक है तो विधानसभा चुनाव कराए जाने चाहिए। वे कहते थे कि हम यही उम्मीद करते हैं कि जल्द से जल्द विधानसभा चुनाव हों। साथ ही उन्होंने प्रदेश में सर्विस वोटर के मुद्दे को भी उजागर किया।

भाजपा के प्रतिनिधि आरएस पठानिया के बकौल, लोकसभा चुनाव में मतदान प्रतिशत कैसे बढ़े, इस पर उन्होंने आयोग के अधिकारियों से बात की। साथ ही लोग आसानी से मतदान कर सकें, इस पर भी चर्चा की गई। भाजपा ने कश्मीरी पंडितों की चुनाव में भागीदारी बढ़ाने के लिए देश के दूसरे हिस्सों में पोलिंग बूथ बनाने की भी मांग उठाई। पठानिया ने कहा कि भाजपा प्रदेश में जल्द विधानसभा चुनाव कराने की पक्षधर है। लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ-साथ किए जाएंगे तो भाजपा इसका समर्थन करेगी।

जबकि चुनाव आयोग की टीम से मुलाकात के बाद नेशनल कांफ्रेंस के प्रतिनिधि नासिर असलम वानी ने कहा कि उन्होंने चुनाव अधिकारियों से लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव कराए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि लोगों को पिछले दस साल से अपनी सरकार चुनने का मौका नहीं मिला है। प्रदेश की जनता की लोकतांत्रिक अधिकारों से वंचित रखा गया है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ‘एक देश, एक चुनाव’ की बात कर रहे हैं तो क्यों ने इसे जम्मू कश्मीर से ही शुरू किया जाए। वानी ने कहा कि अधिकारियों ने उनकी बातें काफी धैर्य से सुनी है। उम्मीद है इन पर उचित फैसला लिया जाए।

जबकि नेकां के अन्य नेता ने कहा कि उन्होंने प्रदेश के लोगों को लोकतांत्रिक हक दिए जाने की मांग उठाई है। उन्होंने कहा कि अमरनाथ यात्रा के शुरू होने से पहले विधानसभा चुनाव कराए जाने चाहिए, ताकि सुरक्षा के मद्देनजर स्थिति अधिक चुनौतीपूर्ण न बने। उन्होंने कहा प्रदेश में चुनाव कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ता है, ऐसी हालात नहीं बनने चाहिए।

याद रहे इससे पहले नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को कहा था कि उनकी पार्टी भारतीय चुनाव आयोग की टीम के समक्ष जम्मू कश्मीर में लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ कराने की मांग उठाएगी। वे कहते थे कि यदि विधानसभा चुनाव स्थगित कर दिए गए तो यह लोगों के साथ अन्याय होगा।

अन्य समाचार

अब तक