मुख्यपृष्ठसमाचारकिसकी शामत आई है?... मोदी मुख्यमंत्री, मोहन यादव प्रधानमंत्री!

किसकी शामत आई है?… मोदी मुख्यमंत्री, मोहन यादव प्रधानमंत्री!

-मध्य प्रदेश सरकार के पोस्टर पर बवाल कैंसर जागरूकता में ही लापरवाह दिखी सरकार

सामना संवाददाता / भोपाल

भाजपाई चिल्ला-चिल्लाकर कहते फिरते हैं कि बच्चों से भी पूछ लो कि देश का पीएम कौन है? लेकिन उनको शायद ये नहीं मालूम कि उनके ही सरकारी कर्मचारियों तक को देश के पीएम और राज्य के सीएम के बारे में जानकारी नहीं है। शायद किसी की तो शामत आई है। यही वजह है कि मध्य प्रदेश में मोदी को मुख्यमंत्री और मोहन यादव को प्रधानमंत्री बना दिया गया है। कल सोशल मीडिया में एक पोस्टर जमकर वायरल होता दिखा, जिस पर बवाल मच गया। इसमें पीएम मोदी और एमपी के सीएम मोहन यादव सहित उप मुख्यमंत्री राजेन्द्र शुक्ल की फोटो छपी है। खास बात ये है कि पोस्टर में प्रधानमंत्री मोदी को एमपी का सीएम तो मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव को प्रधानमंत्री दर्शाया गया है।
ये मामला रीवा के संजय गांधी अस्पताल का है। रीवा में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को लेकर जागरूकता फैलाई जा रही है। उपमुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल द्वारा रीवा में कैंसर पीड़ितों के लिए इंतजाम भी किए गए हैं। साथ ही जिला स्तर पर शिविर भी लगाए जा चुके हैं। इस शिविर को लेकर डिप्टी सीएम का कहना है कि रीवा में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर हों, ताकि कैंसर पीड़ितों को कहीं और भटकने की जरूरत न पड़े।
बता दें कि रीवा के संजय गांधी अस्पताल में पोस्टर लगाए गए हैं। इसी पोस्टर में प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के पद गलत लिखे हैं। इस विवादित पोस्टर को लेकर अब स्वास्थ्य विभाग के आधिकारी मीडिया के सवालों से बचते हुए दिखाई दे रहे हैं। वायरल पोस्टर के बारे में संजय गांधी अस्पताल के अधीक्षक राहुल मिश्रा और मुख्य चिकित्सा स्वास्थ अधिकारी के अलावा कलेक्टर तक कन्नी काटते फिर रहे हैं। हालांकि, जब पोस्टर को लकर हो-हल्ला हुआ तो उसे हटा दिया गया।

अन्य समाचार

अब तक